वैष्णो देवी सहित सभी तीर्थ स्थलों में अब दिखानी होगी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट |

By | April 14, 2021

माँ वैष्णो देवी के दर्शन करने से पहले दिखानी होगी कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट, कोरोना की दूसरी लहर बढ़ने के बाद से मंदिरों में बढ़ाई सख्ती, अब आप किसी भी बड़े मंदिर में दर्शन के लिए जाते हो तो, आपको कोरोना की रिपोर्ट भी दिखानी होगी |

भारत में हिंदू तीर्थ स्थलों में अक्सर काफी ज्यादा भीड़ देखी जाती है। क्योंकि हिंदू धर्म के लोग भारत के कोने कोने में से सभी तीर्थ स्थलों पर दर्शन करने के लिए आते हैं। पहले तो दर्शन करने के लिए श्रद्धालु आसानी से आ जा सकते थे। परंतु अब कोरोनावायरस के चलते सभी तीर्थ स्थलों पर काफी ज्यादा सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

क्योंकि सरकार नहीं चाहती कि तीर्थ स्थलों पर लोग असुरक्षित रहे हैं। सरकार कोरोनावायरस के संक्रमण से सभी श्रद्धालुओं को बचाना चाहती है इसीलिए इतनी ज्यादा सुरक्षा बढ़ाई जा रही है। आज की इस पोस्ट में हम आपको यही बताएंगे कि भारत के किन-किन मंदिरों में अब कोरोनावायरस की नेगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। इसी के साथ-साथ मंदिर जाने से पहले आपको ऑनलाइन दर्शन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

सभी मंदिरों में अब चाहिए होगी करोना नेगेटिव रिपोर्ट तथा दर्शन के लिए होंगे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

भारत में ऐसे बहुत से तीर्थ स्थल है जहां पर हर साल लाखों की तादात में श्रद्धालु दर्शन करने के लिए जाते हैं। यदि आप इन मंदिरों में अब दर्शन करने के लिए जाते हैं तो आपको दो चीजें करनी होगी। पहली तो यह कि आपको 48 घंटे पुरानी करोना नेगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। इसी के साथ साथ मंदिर में दर्शन के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन ( Online Registration ) भी कराना होगा अब हम आपको उन मंदिरों की सूची बता देते हैं।

माँ वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करे

आपको पता ही है कि वैष्णो देवी में हमेशा ही श्रद्धालु आते जाते रहते हैं। परंतु अब की स्थिति को देखकर कानून थोड़े बदल दिए गए हैं। यदि अब कोई भी श्रद्धालु वैष्णो देवी कटरा में दर्शन के लिए जाना चाहता है। तो उसे पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। फिर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पर तारीख दी जाएगी कि वह कब दर्शन के लिए आ सकता है।

vaishno devi Mandir ke darshan kare

जिस तारीख को श्रद्धालु दर्शन के लिए जाएंगे। तो उनके पास उस तारीख से 48 घंटे पुरानी कोरोनावायरस की नेगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए। ध्यान रहे की करो ना कि नेगेटिव रिपोर्ट 48 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए।

शिलामाता मंदिर तथा मां चामुंडा मंदिर

यदि कोई श्रद्धालु जयपुर में स्थित शिला माता मंदिर में दर्शन के लिए जाना चाहता है या फिर जोधपुर में स्थित मां चामुंडा देवी के मंदिर में दर्शन के लिए जाना चाहता है तो हम बता दें कि अभी आप दर्शन के लिए नहीं जा सकते। क्योंकि राजस्थान सरकार के द्वारा अभी इन मंदिरों को बंद कर दिया गया है। क्योंकि राजस्थान में कोरोनावायरस का संक्रमण काफी ज्यादा बढ़ रहा है। जिसके कारण अब यह मंदिर जब तक स्थिति ठीक नहीं हो जाती तब तक बंद ही रहेंगे।

आशापुरा माता का मंदिर

यदि कोई भी श्रद्धालु गुजरात राज्य के कच्छ में स्थित आशापुरा माता के मंदिर में दर्शन के लिए जाना चाहता है। उन्हें भी हम बताते हैं कि अभी दर्शनार्थियों के लिए यह मंदिर बंद कर दिया गया है और अगले निर्देशों तक यह बंद ही रहेगा।

मां काली मंदिर ( पावागढ़ )

पावागढ़ में स्थित मां काली के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं को भी इस समय थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण मां काली के मंदिर के दर्शन बंद कर दिए गए हैं। जब तक परिस्थिति ठीक नहीं होती तब तक इस मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद रहेगा। यदि आप दर्शन करने के लिए इंतजार भी कर रहे हैं। तो भी आपको इस समय सरकार के अधीन निर्देशों का इंतजार करना होगा।

मथुरा के बांके बिहारी का मंदिर

मथुरा में स्थित बांके बिहारी का मंदिर पूरे भारत में प्रसिद्ध है। यहां पर श्रद्धालु काफी दूर-दूर से बांके बिहारी के दर्शन के लिए आते हैं। बांके बिहारी के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के लिए अच्छी खबर है कि आप कोरोनावायरस के चलते भी यहां बांके बिहारी के दर्शन कर पाएंगे। परंतु बांके बिहारी के दर्शन करने के लिए आपको पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। कोरोनावायरस की 48 घंटे पहले की नेगेटिव रिपोर्ट भी दिखानी होगी। उसके पश्चात आप दर्शन कर सकते हैं।

सोमनाथ मंदिर

सोमनाथ मंदिर में भी श्रद्धालु दर्शन के लिए फिलहाल नहीं जा सकते। क्योंकि सोमनाथ मंदिर भी अगला आदेश में है तक अभी बंद ही रहेगा। इसीलिए श्रद्धालु यहां पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा कर भी दर्शन नहीं कर सकते। फिलहाल श्रद्धालुओं को सरकार के अगले निर्देशों का इंतजार करना होगा।

अमरनाथ यात्रा के लिए भी कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट देनी होगी

अमरनाथ के दर्शन करने के लिए भी भारत के कोने कोने में से श्रद्धालु हर साल जाते हैं। यदि आप भी उन्हीं श्रद्धालुओं में से हैं तो हम आपको बता दें कि अमरनाथ यात्रा पर आप 15 अप्रैल के बाद जा सकते हैं। 15 अप्रैल 2021 के बाद अमरनाथ यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो जाएंगे। फिर आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा कर अपनी कोरोनावायरस की नेगेटिव रिपोर्ट लेकर अमरनाथ यात्रा पर जा सकते हैं।

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *