UP Police SI भर्ती में फर्जीवाड़ा सामने आया-असली अभ्यार्थियों की जगह Solver ने की थी परीक्षा पास |

UP Police SI भर्ती में फर्जीवाड़ा सामने आया, Uttar Pradesh Police दरोगा भर्ती में असली अभ्यर्थी की जगह Solver ने की थी परीक्षा पास, परीक्षा केंद्र संचालकों की मिलीभगत सामने आई है, शक होने पर करीब 6 से अधिक अभ्यर्थियों को गिरफ्त्तार किया गया |

UP Police SI Recruitment Exam 2022 का आयोजन यूपी पुलिस भर्ती एवं पदोन्नति बोर्ड की ओर से करवाया गया था। जिस प्रकार हर भर्ती में कोई ना कोई फर्जीवाड़े का मामला सामने आता हैं, तो ठीक इसी प्रकार इस भर्ती में भी एक फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है जिसने हर किसी को हैरान कर दिया हैं।

सूचना के अनुसार यह जानकारी मिली हैं कि UP Police SI Recruitment Exam 2022 में शामिल कुछ उम्मीदवारों को गिरफ्तार किया गया है। इन पर यह आरोप हैं कि उन्होंने Online Exam में अपनी जगह Solver बैठाकर परीक्षा को पास किया था परंतु जैसे ही यह मामला सामने आया,

UP Police SI Dummy Candidates news

तो इन उम्मीदवारों के साथ-साथ इनसे जुड़े अन्य लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। आगे हम आपको उन सभी उम्मीदवारों के बारे में जानकारी देते हैं जिन्होंने अपनी जगह Solver को परीक्षा पास करने के लिए बैठाया था।

Notes & Job Update के लिए फॉर्म भरे

    बीते शनिवार 6 उम्मीदवारों को किया गया, गिरफ्तार

    • UP Daroga Recruitment 2022 को लेकर बीते शनिवार अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया गया हैं। इन पर आरोप है कि इन्होंने परीक्षा में अपनी जगह Solver बैठाकर परीक्षा पास की थी।

    • यह मामला Reserve Police Line में दस्तावेज वेरिफिकेशन व शारीरिक मापदंड प्रशिक्षण के दौरान सामने आया हैं। सूचना के मुताबिक यह पता चला है कि इन उम्मीदवारों ने परीक्षा में अपनी जगह दूसरे व्यक्ति को बैठाने के लिए 7-7 लाख रुपए दिए थे ताकि यह परीक्षा में पास हो सकें।

    शक होने पर पकड़े गए, सभी आरोपी

    • इंस्पेक्टर महानगर दिनेश चंद्र मिश्रा का कहना हैं कि, शनिवार को Physical Standard Test तथा Document Verification के लिए लगभग 300 उम्मीदवारों को पुलिस लाइन बुलाया गया था। दस्तावेज वेरिफिकेशन के दौरान शामली निवासी पिंकू, बुलंदशहर निवासी प्रतीक, हरियाणा सरूपगढ़ निवासी दीपक, मुजफ्फरनगर निवासी हसीन चौधरी, शामली खेड़ा कुरतानी निवासी आशुतोष शर्मा तथा मैनपुरी निवासी रजत कुमार पर शक हुआ था।

    • शक होने की वजह से इन सभी उम्मीदवारों से पूछताछ की गई और पूछताछ के बाद जब इन्होंने थोड़ी बहुत सच्चाई बताई, तो इन्हें तुरंत ही गिरफ्तार करके पुलिस स्टेशन ले जाया गया। वहां पर इनसे फिर से पूछताछ की गई जिसके बाद उन्होंने पूरी सच्चाई बताई कि किस प्रकार इन्होंने 7-7 लाख रुपए देकर परीक्षा में अपनी जगह पर Solver को बिठाया था।

    परीक्षा केंद्र के संचालकों के द्वारा की गई, फर्जी अभ्यर्थी बैठाने में मदद

    • आरोपी उम्मीदवार रजत कुमार ने पुलिस हिरासत में यह सूचना दी है कि, उसका एग्जाम सेंटर आगरा का Krishna Infotech बना था। वहां पर उसने अपने जानकार की मदद से कृष्णा इन्फोटेक के संचालक Mahesh Chandra से संपर्क किया था। इसके बाद महेश चंद्रा ने परीक्षा में उनकी जगह Solver बैठाने के लिए 7 लाख रुपए मांगे थें।

    • रजत कुमार ने महेश चंद्रा को 2 लाख रुपए तो परीक्षा से पहले ही दे दिए थे, जबकि 5 लाख रुपए परीक्षा पास हो जाने के बाद दिए थें।

    • इसी के साथ-साथ हसीन चौधरी, दीपक कुमार, पिंकू कुमार तथा आशुतोष शर्मा ने भी महेश चंद्रा को 7-7 लाख रुपए दिए थे ताकि उन्हें UP SI Bharti 2022 के माध्यम से नौकरी मिल सकें।

    • इसके अलावा आरोपी उम्मीदवार प्रतीक चौधरी का सेंटर आगरा KSW Infotech में पडा था। उन्होंने भी वहां पर परीक्षा केंद्र के संचालक को 5 लाखों रुपए देकर ऑनलाइन परीक्षा में अपनी जगह Solver बैठाकर परीक्षा पास की थी।

    Leave a Comment