कॉलेज परीक्षा में सेक्शन की बाध्यता नहीं-केवल 60 फीसदी अंको के प्रश्न ही करने होंगे|

By | June 11, 2021

स्नातक एवं स्नातकोत्तर परीक्षा में सेक्शन की बाध्यता नहीं, परीक्षा में केवल 60 फीसदी अंको के प्रश्न ही हल करने होंगे, पूरे प्रश्न पत्र में कोई भी तीन प्रश्न करने होंगे, परीक्षा का समय भी दो घंटे का रहेगा |

नई सूचाना-11 जून 2021-:पिछले साल कॉलेज परीक्षा में सेक्शन की बाध्यता नहीं रखी गई थी,लेकिन इस बार अभी तक कोई सूचना जारी नहीं हुई है | अगर कॉलेज परीक्षा से संबंधित कोई भी सूचना जारी होगी तो आपको अवगत करवा दी जाएगी |

नमस्कार दोस्तों-Result Uniraj टीम आपको इस पेज में राजस्थान प्रदेश में होने वाली स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के बारे में सम्पूर्ण जानकारी बताएगी | कोरोना काल में विश्वविधालयों एवं कॉलेजों की परीक्षाएं सितम्बर माह के तीसरे सप्ताह में शुरु हो रही है |

प्रदेश के सभी प्रमुख विश्वविधालयों द्वारा परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है | इसके अलावा कोरोना में केवल अंतिम वर्ष या फाइनल सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षा ही आयोजित करवाई जाएँगी | अन्य सभी कक्षाओं के छात्रों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया है | लेकिन यूजीसी ने अपनी गाइडलाइन में कहा कि अंतिम वर्ष के छात्रों को बिना परीक्षा के डिग्री नहीं दी जा सकती है |

स्कूल खोलने की तैयारी-स्कूल बच्चों को बुलाने को आतुर क्यों?छात्रों की माँग-कोचिंग संस्थान वापस लौटाए फीस:हाईकोर्ट में लगाई याचिका
कॉलेज और प्रतियोगिता परीक्षाओं की तिथि टकराई-परीक्षार्थी असमंजस में|RSMSSB Librarian Previous Year Question Paper

क्योंकि बिना परीक्षा डिग्री देने पर छात्रों की डिग्री पर हमेशा सवाल खड़ा हो सकता है | इसलिए अंतिम वर्ष या फाइनल सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षाएं ऑनलाइन /ऑफलाइन किसी भी माध्यम से आयोजित करवाई जा सकती है | लेकिन सितम्बर-अक्टूबर माह में परीक्षाएं आयोजित करवाई जानी जरुरी है | अधिक जानकारी के लिए आप इस पेज को आखिर तक जरूर पढ़े |

परीक्षा में सेक्शन की बाध्यता नहीं होगी-कोई भी तीन प्रश्न करे

राजस्थान प्रदेश में स्नातक-स्नातकोत्तर परीक्षाएं सितम्बर माह के तीसरे सप्ताह में शुरू होने जा रही है | राजस्थान प्रदेश के सभी प्रमुख विश्वविधालयों में अंतिम वर्ष के करीब आठ लाख से अधिक छात्र-छात्राएं परीक्षाएं देंगे | कोरोना की वजह से परीक्षा की अवधि को भी तीन घंटे से घटाकर दो घंटे कर दी गई है |

इसके अलावा परीक्षा पैटर्न में भी कुछ बदलाव किया गया है | परीक्षा पैटर्न को लेकर नियमित एवं स्वयंपाठी परीक्षार्थी काफी असमंजस की स्थिति में थे | उनका कहना है, कि परीक्षा में क्या पढ़े और क्या नहीं | इसके लिए राजस्थान विश्वविधालय के परीक्षा नियंत्रक वी.के. गुप्ता ने बताया कि छात्र-छात्राओं को केवल 60 फीसदी अंक के प्रश्न ही करने है |

राजस्थान सरकार ने कहा अंतिम वर्ष परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में होंगी-छात्रों को मिलेगा विशेष परीक्षा का मौकापीटीईटी के प्रवेश पत्र जारी-परीक्षा में इन बातों का रखना होगा ध्यान |
रीट में NCTE का पाठ्यक्रम-कॉमर्स के विधार्थियों को सम्मिलित किया जायेगा |राजस्थान में पीटीआई के 1555 पद रिक्त-बेरोजगारों को भर्ती का इंतजार

यानि अगर पेपर 100 अंक का है, तो पेपर में केवल 60 अंको के प्रशनो के जवाब ही देंगे होंगे | इसके अलावा परीक्षार्थी पूरे पेपर में कोई भी तीन प्रश्न कर सकेंगे | इसके लिए सेक्शन की कोई बाध्यता नहीं होगी |

प्रश्न पत्र से संबंधित पूछे जाने वाले सवाल?

क्या मार्किंग में किसी तरह की कोई छूट मिलेगी या नहीं?

नहीं, 60% अंक का पेपर करना है | इसके अलावा मार्किंग में किसी तरह की छूट का प्रावधान नहीं है|

परीक्षा में पेपर अलग-अलग सेक्शन में आता है| फिर तीन प्रश्न कैसे करेंगे?

सेक्शन की कोई बाध्यता नहीं रहेगी| पेपर में पांच सेक्शन में पेपर आता है | प्रत्येक सेक्शन में दो प्रश्न अथवा में होते है| इनमे से एक-एक प्रश्न करना होता है | अब पांच सेक्शन के दस प्रश्न अलग-अलग गिने जायेंगे | इन दस में से कोई भी तीन प्रश्न कर सकेंगे |

कई प्रश्नो में कई खंड या हिस्से होते है, सभी करने जरुरी है क्या?

हाँ जी बिल्कुल, एक प्रश्न के क, ख,ग खंड दिए हुए हो तो, उन सभी को करना होगा | अगर इनमे से आधा ही किया जाता है, तो भी पुरे प्रश्न के अंक का अटेम्प्ट माना जायेगा|

follow us for social updates

2 thoughts on “कॉलेज परीक्षा में सेक्शन की बाध्यता नहीं-केवल 60 फीसदी अंको के प्रश्न ही करने होंगे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *