Stenographer Revised Result के बाद बेरोजगार युवा ने किया जीवन खत्म- मृत्यु से पहले अपनी बहन बात कर बताई पीड़ा |

By | October 31, 2021

Stenographer Revised Result के बाद बेरोजगार युवा ने किया जीवन खत्म, कोर्ट द्वारा स्टेनोग्राफर भर्ती का पुनः परिणाम जारी के आदेश के बाद से देवनारायण की आत्महत्या, जीवन खत्म करने से पहले बेरोजगार युवा ने अपनी बहन से बात कार बताई पीड़ा, बेरोजगार ने कहा की रिश्तेदारों को क्या मुँह दिखाऊंगा |

आज के समय में यदि हम प्राइवेट नौकरी की बात करें, तो प्राइवेट नौकरी में एंप्लॉय को बेहतर सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं l इसीलिए युवाओं के द्वारा अब सरकारी नौकरी की तैयारी में अधिक समय दिया जा रहा है l सरकारी नौकरी चाहे छोटे पद की हो परंतु सरकारी नौकरी में बेहतर सुविधाएं मिलने के कारण युवाओं की पहली पसंद सरकारी नौकरी बन गई है l

एक मिडिल क्लास फैमिली के लिए सरकारी नौकरी किसी सपने से कम नहीं होती है l परिवार में किसी एक सदस्य की सरकारी नौकरी लगने से पूरे परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी हो जाती है l सरकारी नौकरी के सपने लिए लाखों युवा हर वर्ष विभिन्न प्रकार की परीक्षाओं में शामिल होते हैं और परीक्षाओं को पास करने के लिए बेहतर तैयारी करते हैं l

लेकिन कभी-कभी भर्ती को पूरे होने में ही 3 से 4 वर्ष का समय लग जाता है l कई बार भर्ती फर्जीवाड़े की भेंट चढ़ जाती है और योग्य उम्मीदवार चयन से वंचित हो जाते हैं l देश विदेश में ऐसे हजारों मामले सामने आते हैं जिनमें बेरोजगार युवाओं के द्वारा डिप्रेशन में जाने के कारण आत्महत्या कर ली जाती है l ऐसा ही मामला हाल ही में राजस्थान में देखने को मिला है l राजस्थान में स्टेनोग्राफर भर्ती के रिवाइज्ड रिजल्ट के कारण एक परीक्षार्थी ने आत्महत्या कर ली है l आइए जानते हैं कि पूरा मामला क्या है  l

कुछ महीनों पहले हुआ था देवनारायण का स्टेनोग्राफर भर्ती में चयन

राजस्थान सरकार के द्वारा कुछ समय पहले 434 पदों पर स्टेनोग्राफर भर्ती निकाली गई थी l इस भर्ती के तहत राज्य सरकार के द्वारा परीक्षा का आयोजन करवा कर अंतिम चयन लिस्ट भी जारी कर दी गई थी l अंतिम परिणाम जारी होने के बाद सफल अभ्यर्थी नियुक्ति पत्र का इंतजार कर रहे थे,परंतु कुछ परीक्षार्थी ऐसे थे जो स्टेनोग्राफर भर्ती के परिणाम से खुश नहीं थे l

Devnarayan nee ki aatm Hatya

उन्होंने कोर्ट में स्टेनोग्राफर भर्ती के परिणाम के विरुद्ध याचिका डाल दी, जिस वजह से स्टेनोग्राफर भर्ती की नियुक्ति प्रक्रिया हाई कोर्ट के अधीन हो गईl देवनारायण भी इसी स्टेनोग्राफर भर्ती में शामिल था l देवनारायण का नाम स्टेनोग्राफर भर्ती की पहली लिस्ट में आ चुका था इसीलिए पूरा परिवार देवनारायण की नियुक्ति का इंतजार कर रहा था l

कोर्ट ने स्टेनोग्राफर भर्ती का रिवाइज्ड रिजल्ट जारी करने का दे दिया था आदेश

सभी परिवार वाले खुश थे, लेकिन देवनारायण और परिवार की खुशी ज्यादा दिन तक नहीं चल सकी l कोर्ट के द्वारा स्टेनोग्राफर भर्ती के लिए यह निर्णय लिया गया कि स्टेनोग्राफर भर्ती में सॉफ्टवेयर की खामियों के कारण रिजल्ट सही से जारी नहीं हो पाया है l इसीलिए कोर्ट के द्वारा यह फैसला लिया गया कि स्टेनोग्राफर भर्ती का रिवाइज्ड रिजल्ट जारी किया जाए l

बोर्ड के द्वारा कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए स्टेनोग्राफर भर्ती का रिवाइज्ड रिजल्ट जारी किया गया l रिवाइज्ड रिजल्ट जारी होने के पश्चात जब देवनारायण ने अपना नाम लिस्ट में चेक करा तो देवनारायण का नाम लिस्ट में नहीं था l लिस्ट में नाम ना होने के कारण देवनारायण डिप्रेशन में चला गया , जिसके चलते देवनारायण ने आत्महत्या कर ली l

मृत्यु से पहले देवनारायण ने की थी अपनी बहन से बात और दिया था अंतिम संदेश

देवनारायण के पिता से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने यह जानकारी दी कि देवनारायण ने अपनी मृत्यु से पहले अपनी बहन से बात की थी l देवनारायण दो बहनों का इकलौता भाई था उसने अपनी बहन से कहा कि “ एक मिडल क्लास फैमिली के लिए सरकारी जॉब मिलना बहुत बड़ी बात होती है l देवनारायण ने अपनी बहन को कहा की मां ने और पूरे परिवार ने हमेशा आर्थिक तंगी सही है और काफी मुश्किलों का सामना किया है l इसीलिए देवनारायण ने सरकारी नौकरी पाने के लिए पूरी मेहनत और लगन से परीक्षा दी l

देवनारायण खुश था कि पहली लिस्ट में उसका चयन हो गया है,इसलिए अब घर में खुशियां आएंगी और सब कुछ सही हो जाएगा l परंतु स्टेनोग्राफर रिवाइज्ड रिजल्ट आने के कारण देवनारायण का चयन नहीं हो पाया और सारे सपने टूट गए l देवनारायण ने अपनी बहन से यह भी कहा कि अब सब दोस्त और रिश्तेदार उस पर हसेंगे कि उसका चयन तो पहले हो गया था और अब रिवाइज्ड रिजल्ट में उसका चयन नहीं हुआ l” 

पुलिस और परिवार के सदस्यों के बीच हुई थी यह बात

देवनारायण ने इसके पश्चात अपनी बहन व परिवार के किसी भी सदस्य से बात नहीं की,ना ही वह घर आया l जब देवनारायण घर नहीं आया, तो घर वालों ने पुलिस में रिपोर्ट लिखवाने के बारे में सोचा l पुलिस वालों ने उन्हें यह कहा कि वह रात भर उसका इंतजार करें, अगर रात भर में नहीं आता तो सुबह उसकी खोज की जाएगी l गुरुवार रात को देवनारायण घर नहीं पहुंचा और शुक्रवार सुबह 7:00 बजे उसी के मोबाइल फोन से किसी अनजान व्यक्ति ने घरवालों को फोन करके सूचना दी l जिस व्यक्ति का यह फोन है उसकी गाड़ी की चाबी और बॉडी पटरी पर पड़ी हुई है l यह खबर सुनते ही पूरा परिवार सदमे में चला गया l

परिवार इस समय काफी टूट चुका है और उनका यह कहना है कि यदि पुलिस गुरुवार रात ही उनकी मदद कर देती, तो देवनारायण आज उनके बीच होता l यह खबर काफी दुखद है, हर वर्ष ना जाने कितने हजारों बेरोजगार युवा डिप्रेशन में आकर अपनी जिंदगी खत्म कर रहे हैं l सरकार को जल्द ही बेरोजगार युवाओं के बारे में महत्वपूर्ण कार्य करने चाहिए l 

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *