IAS Officer बनने के लिए छोड़ दी 9 सरकारी नौकरियां-प्रमिला नेहरा युवाओं के लिए बनी मिसाल |

IAS Officer बनने के लिए छोड़ दी 9 सरकारी नौकरियां, प्रमिला नेहरा ने IAS बनने से पहले करीब 9 सरकारी नौकरियाँ भी छोड़ी, प्रमिला वर्तमान में भी प्रथम श्रेणी शिक्षक की नौकरी कर रही है, Pramila Nehra की इस कामयाबी से पूरे राजस्थान में चर्चे है |

पिछले कुछ वर्षों से UPSC Civil Service की तैयारी करने वाले युवाओं की संख्या में काफी इजाफा हुआ है l यूपीएससी सिविल सर्विस देश की सबसे प्रतिष्ठित नौकरी में से एक है l हर वर्ष लाखों युवा यूपीएससी सिविल सर्विस की तैयारी करते हैं l लेकिन यूपीएससी में चयन पाना इतना आसान काम भी नहीं है l इस परीक्षा को देश की सबसे मुश्किल परीक्षा माना जाता है l

हर वर्ष लाखों उम्मीदवार UPSC Civil Service की परीक्षा में शामिल तो होते हैं, लेकिन प्रारंभिक शिक्षा के बाद मुख्य परीक्षा के लिए बहुत कम उम्मीदवारों का चयन किया जाता है l हर वर्ष हजारों छात्र ऐसे हैं, जो प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा को तो पास कर पाते हैं, लेकिन Interview में अच्छी परफॉर्मेंस नहीं दिखा पाते l

जिस कारण उनका अंतिम रूप से चयन भी नहीं हो पाता है l सिविल सर्विस के लिए युवा कई सालों तक मेहनत करते हैं l आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको एक ऐसी ही Civil Service की तैयारी कर रही छात्रा से मिलवाने वाले हैं, जिन्होंने सिविल सर्विस में चयन लेने के लिए 9 सरकारी नौकरियों को ही छोड़ दिया है l जिनके चर्चे राजस्थान में नहीं बल्कि पूरे भारत में हैं l चलिए इन महिला के बारे में पूरी जानकारी जानते हैं l

Handwritten Notes के लिए फॉर्म भरे

प्रमिला नेहरा के चर्चे है पूरे Rajasthan में

आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको प्रमिला नेहरा नाम की एक ऐसी युवा छात्रा के बारे में बताने वाले है, जिन्होंने यूपीएससी में चयन लेने के लिए 9 Goverment Jobs ठुकरा दी है l Pramila Nehra राजस्थान के सीकर जिले के अंतर्गत आने वाले सिहोट गांव की निवासी है l इनके पिता का नाम राम कुमार नेहरा है और इनकी माता का नाम मनकोरी देवी है l

इनके पिता पेशे से किसान है और माता ग्रहणी है l जानकारी के मुताबिक अब तक प्रमिला ने 5 सालों में 9 सरकारी नौकरियों के लिए परीक्षा दी थी l प्रमिला लेक्चरर भर्ती, ग्राम सेवक, महिला पर्यवेक्षक, पटवारी, एलडीसी और Police Constable के अलावा अन्य भर्ती परीक्षाओं में शामिल हुई है l

प्रमिला ने अब तक 7 सरकारी नौकरियां हासिल कर ली थी लेकिन इन नौकरियों को हासिल करने के बाद भी प्रमिला ने इन सभी नौकरियों को ठुकरा दिया l वजह सिर्फ एक ही थी कि वह सिविल सर्विस में Selection  लेना चाहती है l प्रमिला का यह कहना है कि जब तक प्रमिला सिविल सर्विस में Selection नहीं ले पाएगी, तब तक वह नहीं रुकेगी l

प्रमिला इस समय प्रथम श्रेणी अध्यापक के पद पर तैनात

जानकारी के मुताबिक 7-8 सरकारी नौकरियों को ठुकराने के बाद साल 2020 में प्रमिला स्कूल व्याख्याता प्रथम श्रेणी अध्यापक भर्ती में चयनित हुई थी l वर्तमान में भी प्रमिला प्रथम श्रेणी अध्यापक के पद पर तैनात हैं l लेकिन जानकारी के मुताबिक प्रमिला First Grade Teacher के पद से भी इस्तीफा देने वाली है l क्योंकि उनका सपना है कि उन्हें सिविल सर्विस में चयन लेना है l

इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रमिला ने सबसे पहले 2015 में थर्ड ग्रेड शिक्षक भर्ती की परीक्षा दी थी और उनका चयन भी थर्ड ग्रेड शिक्षक भर्ती में हो गया था l लेकिन ज्वाइन करने के कुछ समय पश्चात ही उन्होंने यह नौकरी छोड़ दी थी l

थर्ड ग्रेड शिक्षक भर्ती के बाद प्रमिला ने एलडीसी, पटवारी, ग्राम सेवक और Female Supervisor की परीक्षा दी गई थी l जिसमें इनका चयन भी हो गया था l लेकिन प्रमिला का सपना Civil Service में चयन लेने का है, इसीलिए उन्होंने सभी नौकरियां 2 महीने, 3 महीने करके छोड़ दी थी l

सभी भर्ती में शादी के बाद ही हुआ है चयन

आपको जानकर हैरानी होगी कि प्रमिला नेहरा ने आज तक जितनी भी परीक्षाएं दी है और जिस  भर्ती में इनका चयन हुआ है, वह इनकी शादी के बाद ही हुआ है l हम सभी जानते ही हैं कि एक लड़की की शादी के बाद कितनी जिम्मेदारियां बढ़ जाती है l

लेकिन प्रमिला नेहरा ने अपने ससुराल में रहकर सभी जिम्मेदारियों को निभाते हुए सभी भर्ती परीक्षाएं दी और उन में चयन भी लिया l जानकारी के मुताबिक प्रमिला नेहरा के ससुराल वालों ने प्रमिला को हमेशा से ही काफी सपोर्ट किया है l प्रमिला नेहरा ने बताया कि उनकी ससुराल वाले अगर उन्हें सपोर्ट ना करते तो उनका Government Job पाने का सपना कभी भी पूरा नहीं हो पाता l

प्रमिला नेहरा के जीवन से लाखों महिलाओं को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिल रही है l आज के समय में तो युवा यही सोचते हैं कि उन्हें सिर्फ एक सरकारी नौकरी मिल जाए उसके बाद उनकी लाइफ सेट हो जाएगी l लेकिन प्रमिला नेहरा की  एक नई सोच सभी युवाओं के लिए एक मिसाल बन चुकी है l

Leave a Comment