मारवाड़ मुंडवा स्कूल के शिक्षकों ने छात्रा की शादी में भरा मायरा-शिक्षकों के इस नेक कार्य की सभी ने की तारीफ |

मारवाड़ मुंडवा स्कूल के शिक्षकों ने छात्रा की शादी में भरा मायरा, राजस्थान प्रदेश के शिक्षकों ने की मिसाल, मारवाड़ मुंडवा विद्यालय के शिक्षकों ही विद्यालय की छात्रा की शादी में 1.50 लाख रूपये का मायरा भरा,

हम सभी जानते ही हैं कि जब भी किसी बेटी या फिर बेटे की शादी होती है, तो शादी में मामा और नाना की ओर से मायरा भरा जाता है l राजस्थान के कई जिले ऐसे हैं, जहां पर मायरा देना काफी जरूरी माना जाता है l आपने कई बार राजस्थान अन्य राज्यों से मायरा के कई किस्से सुने होंगे जिसमें मामा और नाना की ओर से काफी लाखों रुपए का मायरा भरा जाता है l

लेकिन आज हम आपको ऐसी शादी के बारे में बताने वाले हैं, जिसमें भरे गए मायरा ने एक नई मिशाल पेश की हैl  हाल ही में ही पुनास गांव की छात्रा पूजा बाजिया और उसके भाई के विवाह के अवसर पर 1 लाख 51 हजार रुपए का मायरा भरा गया है जो काफी चर्चा में है l चलिए आपको बताते हैं की पुनास गांव का यह मायरा इतना ज्यादा चर्चा में क्यों है l

स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल मारवाड़ मूंडवा के शिक्षक स्टाफ बने मिसाल

दरअसल हाल ही में ही पुनास गांव की रहने वाली एक छात्रा पूजा बाजिया व उसके भाई नरेंद्र बाजिया की शादी थी l दोनों भाई बहन की शादी के अवसर पर स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल मारवाड़ मूंडवा के शिक्षक स्टाफ भी शादी में पहुंचे थे l

Notes & Job Update के लिए फॉर्म भरे

    प्रधानाचार्य नवीन कुमार ने यह बताया कि छात्रा पूजा के माता और पिता दोनों का ही देहांत हो चुका है l जिस कारण इनके घर की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा कमजोर है l पूजा के भाई नरेंद्र का भी ज्यादा अच्छा काम नहीं था और इसी कारण स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल मारवाड़ मूंडवा के शिक्षक स्टाफ ने कुछ विद्यार्थियों के साथ मिलकर शादी में शरीक होने का फैसला लिया l

    आपको जानकर हैरानी होगी कि स्कूल के स्टाफ ने भाई-बहनों के विवाह के अवसर पर आर्थिक सहायता देने के लिए ₹151000 थाली में रखकर मायरा भरा l ₹151000 के इलावा स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल के स्टाफ ने कन्यादान के रूप में थाली में चांदी की पायल भी रखी l

    जब पूजा और उसके भाई ने स्कूल के स्टाफ और विद्यार्थियों को मायरा देते हुए देखा, तो दोनों भाई बहन की आंखों में आंसू आ गए l अपने गुरुजनों का स्नेह पाकर दोनों भाई-बहन काफी ज्यादा भावुक भी हो गए थे l

    मनोज बिडियासर ने बिना दहेज के लिए सात फेरे

    पूजा बाजिया का विवाह जिनके साथ हुआ है उनका नाम मनोज है l इस शादी में जहां एक तरफ स्कूल के स्टाफ ने अनोखा मायरा भरकर सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया है l वहीं दूसरी ओर दूल्हे ने भी एक बहुत बड़ा काम किया है,जिस कारण दूल्हे की भी काफी तारीफ की जा रही है l

    शिवलाल पुत्र मनोज ने पूजा के साथ बिना दहेज के सात फेरे लिए, जिस कारण हर तरफ मनोज की वाहवाही हो रही है l आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूजा का विवाह करवाने के लिए मॉडल विद्यालय मूंडवा के शिक्षक बंसीलाल ने फेरे करवाए हैं l

    इसी के साथ-साथ कुचेरा टोल प्लाजा के मैनेजर महावीर सिंह व सुपरवाइजर सुखा राम गोदारा ने 1100 रुपए मायरा भरने के लिए भेजे थे l दरअसल जब शिक्षक स्टाफ शादी में शामिल होने के लिए आ रहे थे, तो कुचेरा टोल प्लाजा वाले स्टाफ ने शिक्षकों से टोल टैक्स मांगा l

    जब शिक्षकों ने बताया कि वह अपनी पूर्व छात्रा पूजा के विवाह में मायरा भरने जा रहे हैं, तो टोल प्लाजा स्टाफ भी काफी खुश हुआ और उन्होंने भी बच्चे की शादी में भरे जा रहे मायरा में हिस्सेदारी की l

    पुनास गांव के सरपंच व अन्य लोगों ने स्कूल स्टाफ की जम कर तारीफ की

    पूजा की शादी में पूरा गांव शामिल था l जब स्कूल स्टाफ के द्वारा मायरा भरा गया, तो पुनास गांव के सरपंच प्रतापराम भी मौजूद थे l इसी के साथ-साथ पूजा के काका राजेंद्र बाजिया, बलदेव राम, धनाराम, भोमाराम, भवरलाल, शेतान राम हरिकिशन आदि सभी ग्रामीण लोग शामिल थे l

    सबने शिक्षकों के द्वारा किए गए इस काम की काफी तारीफ की l वही प्रधानाचार्य और शिक्षकों को पूजा ने यह विश्वास भी दिलाया कि वह शादी के बाद भी अपनी पढ़ाई को जारी रखेगी और वह एक दिन जरूर सफल होकर मॉडल विद्यालय आएगी l ग्रामीण लोगों और स्टाफ ने पूजा एवं भाई को शादी की शुभकामनाएं दी और उनके सुनहरे भविष्य की कामना की l

    समाज को लेनी चाहिए सीख

    हमारे समाज में आजकल दहेज के मामले काफी ज्यादा बढ़ रहे हैं l दहेज के कारण लड़कियों को अपनी जान तक गंवानी पड़ती है l मनोज ने पूजा के साथ बिना दहेज के फेरे लेकर समाज के सामने एक नई पहल शुरू की है l समाज के लोगों को भी मनोज की तरह दहेज मुक्त विवाह करना चाहिए l

    जिस प्रकार स्कूल के स्टाफ ने गरीब बच्ची की शादी के लिए मायरा भरा है, इसी प्रकार अन्य लोगों को भी अपने आसपास के गरीब बच्चों के लिए कुछ ना कुछ आर्थिक सहायता जरूर करनी चाहिए l

    Leave a Comment