Rajasthan Chiranjeevi Card Holder महिलाओं को Smart Phone मिलने शुरू हुए-3 साल के लिए फ्री Data भी मिलेगा |

Rajasthan Chiranjeevi Card Holder महिलाओं को Smart Phone मिलने शुरू हुए,राजस्थान सरकार 15 नवम्बर से चिरंजीवी कार्ड धारी परिवारी की मुखिया महिला को Smart Phone देगी, राजस्थान प्रदेश के 1 करोड़ 25 लाख परिवारों को मोबाइल फोन बांटे जाएंगे, महिलाओं को स्मार्ट फोन के साथ साथ इंटरनेट डाटा भी मुफ्त में दिया जाएगा, 3 साल के लिए फ्री Data भी मिलेगा

 Rajasthan government ने चिरंजीवी कार्ड धारी महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। जिसमें ऐसी 1.35 करोड़ महिलाओं को दिवाली के बाद स्मार्टफोन बांटे जाएंगे। स्मार्टफोन बांटने के साथ ऐसी महिलाओं को डिजिटली साक्षर भी बनाया जाएगा ताकि यह महिलाएं फोन का किस प्रकार उपयोग करना है, उसको अच्छी तरह समझ पाए।

चिरंजीवी कार्ड धारी महिलाओं को smartphone चलाने की पूरी जानकारी डिजिटल सखियां देंगी। जिसके लिए राजस्थान सरकार 70000 मास्टर ट्रेनर तैयार करने जा रही है। इन मास्टर ट्रेनर में सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाएं शामिल होंगी। जिनको डिजिटल सखी का नाम दिया गया है।

आइये आज की पोस्ट में हम जानते हैं, chiranjeevi card धारी महिलाओं को सरकार smartphone किस उद्देश्य से दे रही है, और इस कार्यक्रम से क्या-क्या लाभ लोगों को होने जा रहा है।

Govt Job Update & Exam Notes के लिए फॉर्म भरे

राजस्थान सरकार द्वारा 1.35 करोड़ महिलाओं को सशक्त किया जाएगा

राजस्थान सरकार द्वारा 1.35 करोड़ महिलाओं को स्मार्टफोन देने से digital awareness करने का बड़ा महत्वपूर्ण उद्देश्य है। क्योंकि आज भी बहुत सारी महिलाएं डिजिटल रुप से साक्षर नहीं है। स्मार्टफोन का उपयोग कैसे किया जाए और क्या-क्या योजनाएं, smartphone से जुड़ी हैं, जो उन महिलाओं तक नहीं पहुंचती हैं। साथ ही ऐसी महिलाएं ना तो Digital Payment कर सकती हैं और ना ही साइबर फ्रॉड जैसे आजकल होने वाले क्राइम से बच पाती हैं। इन्हीं सब उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए, chiranjeevi card धारी महिलाओं को राजस्थान सरकार ना केवल स्मार्टफोन देने जा रहे हैं बल्कि उनको स्मार्टफोन चलाने में पूरी training भी दी जाएगी।

Smartphones will be distributed to women holding Chiranjeevi cards

Chiranjeevi Yojana में जयपुर के यह Hospital जोड़े गए

Mukhyamantri Digital Seva Yojana 2022

क्योंकि कई बार ऐसा होता है, कि काफी महिलाएं स्मार्टफोन नहीं चला पाती हैं। जबकि आजकल राजस्थान सरकार तथा केंद्र सरकार द्वारा बहुत से लाभकारी कार्यक्रम विभिन्न एप्स और digital platform पर चलाए जा रहे हैं। जिस वजह से ऐसी महिलाएं लाभकारी कार्यक्रमों का हिस्सा नहीं बन पाती हैं।

जबकि सरकार उनके लिए ही यह सारे कार्यक्रम चलाती हैं। इसलिए राजस्थान सरकार ने उनकी इन मजबूरियों को देखते हुए ही, ऐसी चिरंजीवी कार्ड धारक महिलाओं को smartphone देने की योजना बनाई है। जिसे राजस्थान सरकार उनके लिए चलाए जाने वाले कार्यक्रमों को रोजाना अपडेट करती रहे।

हालांकि स्मार्टफोन देना ही राजस्थान सरकार का मुख्य उद्देश्य नहीं है। बल्कि इस स्मार्टफोन को अच्छी तरह चलाय जाने की training भी इन महिलाओं को दी जाएगी। जिससे इन्हें किसी भी प्रकार की कोई भी परेशानी ना हो। क्योंकि खाली स्मार्टफोन देने से यह महिलाएं दूसरों पर निर्भर हो जाती। या फिर इनके साथ कोई फ्रॉड भी हो सकता था। इस वजह से राजस्थान सरकार द्वारा डिजिटल सखियों को नियुक्त किया जाएगा। ताकि वे इन smartphone प्राप्त करने वाली महिलाओं को अच्छी तरह डिजिटल रुप से साक्षर कर सकें और राजस्थान सरकार के विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रमों में भागीदार बन पाए।

राजस्थान सरकार चलाने जा रही है विश्व का सबसे बड़ा डिजिटल अवेयरनेस अभियान

यह बात बड़ी गौरवान्वित करती है, कि राजस्थान सरकार 1.35 करोड़ महिलाओं को स्मार्टफोन देने जा रही है। यह दुनिया का सबसे बड़ा digital awareness अभियान है। राजस्थान सरकार के इस कार्यक्रम की हर जगह प्रशंसा हो रही है। क्योंकि इतने बड़े पैमाने पर महिलाओं को सशक्त बनाने की पहल अपने आप में बड़ी महत्वपूर्ण है।

इस डिजिटल अवेयरनेस अभियान से राजस्थान सरकार अब अपने सभी महिलाओं के लिए चलाए जा रहे कल्याणकारी कार्यक्रम मे ऐसी महिलाओं को आसानी से जोड़ सकेगी। जिससे कल्याणकारी कार्यक्रम को जरूरतमंद महिलाओं तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है।

क्योंकि पहले ऐसी महिलाएं बिना awareness के दूसरों पर निर्भर रहती थी। जिससे कई बार तो उन्हें ऐसे कार्यक्रम तथा स्कीमों का पता ही नहीं चलता था। जो सरकार द्वारा केवल उनके लिए ही चलाई गई थी। ऐसे कार्यक्रम तथा स्कीमों का फायदा जरूरतमंद लोगों को नहीं मिल पा रहा था।

जिससे सरकार भी ऐसी चीजों को लेकर बहुत चिंतित थी। जिसके बाद राजस्थान सरकार द्वारा इस संबंध में काफी रिसर्च किया गया। तब जाकर सरकार द्वारा महिलाओं को digital रूप से साक्षर करने के कार्यक्रम की शुरुआत की गई। क्योंकि ऐसी स्कीमों का फायदा ही क्या है,जब जरूरतमंद लोगों को मिल ही नहीं रही हैं।

स्मार्टजीवी भव: मे chiranjeevi card धारी महिलाओं को स्मार्टफोन के साथ क्या दिया जाएगा

चिरंजीवी कार्ड धारी 1.35 करोड़ महिलाओं को आधुनिक स्मार्टफोन दिए जाएंगे। यह सभी smartphone सैमसंग, नोकिया और जिओ कंपनी के होंगे। जिसमें 6 इंच तक की टच स्क्रीन भी देखने को मिलेगी। साथ ही 20 जीबी इंटरनेट डाटा चिरंजीवी कार्ड धारक महिलाओं को हर महीने मिलेगा। जो कि 3 साल तक ऐसे ही मुफ्त में मिलता रहेगा। लेकिन यदि कोई लाभार्थी महिला अपने smartphone का अच्छी तरह इस्तेमाल नहीं करती है, तो उसका डाटा रिचार्ज नहीं किया जाएगा। यानी उसको हर महीने 20 GB Data फ्री नहीं मिलेगा।

70000 डिजिटल सखियों को किया जाएगा नियुक्त।

सरकार का यह सोचना है, कि केवल जरूरतमंद महिलाओं को स्मार्टफोन देना ही जरूरी नहीं है। क्योंकि अगर वह स्मार्टफोन चलाना नहीं जानती हैं, तो उनके लिए इस smartphone बस एक डब्बा है। इसलिए सरकार ने 70000 डिजिटल सखियों को नियुक्त करने की घोषणा की है। जो इन 1.35 करोड़ महिलाओं को स्मार्टफोन चलाने के लिए प्रशिक्षित करेंगी। जिससे जरूरतमंद महिलाएं Digital Payment के साथ-साथ साइबर फ्रॉड से भी बच सकें।

बता दें कि इन डिजिटल सखियों की नियुक्तियां, सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाओं से की जाएंगी। जिसमें हर ग्राम पंचायत में ऐसी तीन से चार महिलाओं को चुना जाएगा, जोकि स्मार्टफोन प्राप्त करने वाली महिलाओं को स्मार्टफोन चलाने की training देंगी।

डिजिटल सखियां क्या-क्या ट्रेनिंग देंगी

सरकार की यह योजना है, कि 70000 डिजिटल सखियां 1.35 करोड़ महिलाओं को डिजिटल रुप से साक्षर करेंगी। जिसमें डिजिटल सखी, इन महिलाओं को ई KYC कैसे करें, सभी जरूरतमंद 1.35 करोड़ महिलाओं की पहचान करना तथा उनको कैंप तक लाना, साइबर क्राइम और डिजिटल पेमेंट से जुड़ी ट्रेनिंग तथा मोबाइल फोन के जरिए सरकारी योजनाओं में कैसे भागीदारी करें? इत्यादि से संबंधित training दी जाएगी।

3 साल तक फ्री इंटरनेट सुविधा

Mukhya Mantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana 2022

चिरंजीवी कार्ड धारक महिलाएं Smart Phone नहीं बेच सकेंगी

राजस्थान सरकार द्वारा इन जरूरतमंद महिलाओं को दिया जाने वाला smartphone अलग तरह से डिजाइन किया गया है। क्योंकि जरूरतमंद महिलाएं गरीब होती हैं। इसलिए सरकार ने यह भी सोचा है कि अगर कोई ऐसी महिला इन स्मार्टफोन को बेचने की सोचेगी या फिर स्मार्टफोन में अपना दूसरा sim card डालने की कोशिश करेगी। तो वे ऐसा नहीं कर सकते हैं।

इन स्मार्टफोन का कुछ अलग तरह से सॉफ्टवेयर डिजाइन किया गया है। इसमें केवल राज्य सरकार द्वारा दिया गया सिम कार्ड ही इसमें चलेगा। अन्य सिम कार्ड इस स्मार्टफोन में इस्तेमाल नहीं किए जा सकते हैं। क्योंकि इसका primary Box बंद किया हुआ है। केवल सेकेंडरी बॉक्स में राजस्थान सरकार द्वारा एक्टिवेट सिम ही इस Smart Phone में चलेगा।

Click here-चिरंजीवी योजना से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी देखे |

Leave a Comment