11 लाख शिक्षकों पर रोजगार पर संकट-राज्य सरकार जारी करे स्पेशल पैकेज |

By | July 16, 2021

राजस्थान प्रदेश के करीब 11 लाख निजी शिक्षकों पर रोजी-रोटी का संकट आ चूका है, राज्य सरकार को जल्द स्पेशल पैकेज घोषित करना चाहिए, निजी स्कूल संचालको ने कहा राज्य सरकार मांगे नहीं मानेगी तो 05 नवम्बर से स्कूल बंद कर दी जाएगी |

नमस्कार दोस्तों-Result Uniraj टीम आपको इस पेज में निजी शिक्षकों के सामने खड़ी हुई रोजगार की समस्या के बारे में सम्पूर्ण जानकारी बताएगी | कोरोना महामारी की वजह से सभी वर्ग की कमर टूट चुकी है | लेकिन सभी लोग एक-दूसरे का सहयोग कर मानवता का धर्म निभा रहे है |

ऐसे में सरकार को चाहिए कि लोगो का मनोबल बढ़ाये और साथ-साथ में नए रोजगार उपलब्ध करवाए | मार्च माह से देश में लॉकडाउन लगने के बाद सभी स्कूल, कॉलेज, मंदिर, मस्जिद,एवं सार्वजानिक स्थल सम्पूर्ण रूप से बंद कर दिए गए थे | लेकिन इसके बावजूद भी शिक्षा के मंदिर ऑनलाइन माध्यम से खुले रहे और बच्चों को अगली कक्षा के लिए पढ़ाई करवाई गई थी |

प्रदेश के अधिकतर स्कूलों ने अपने बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाया था | लेकिन जब बात फीस लेने की आई तो मामला कोर्ट तक चला गया था | अब सरकार को चाहिय कि अभिभावकों का भी नुकसान न हो और निजी स्कूलों के संचालको को भी कुछ फायदा हो जाये | इसके लिए कोई बीच का रास्ता निकलना चाहिए | अधिक जानकारी के लिए आप इस पेज को आखिर तक जरूर पढ़े |

05 नवम्बर से निजी स्कूलों का संचालन बंद होगा-

सीकर जिला निजी शिक्षण संस्थान संघ के पदाधिकारियों ने सरकार को चेतवानी दी है कि पुराने न्यायालय ने निर्णय के हिसाब से फीस वसूली के आदेश जारी किये जाए | इसके अलावा उन्होंने कहा कि अगर सरकार ऐसा करने में असमर्थ है तो निजी स्कूल संचालकों को आर्थिक पैकेज दिया जाए |

संघ के प्रवक्ता डॉ.बलवंत सिंह चिराना, जिलाध्यक्ष बीएल रणवां, प्रदेश अध्यक्ष व स्कूल सयुंक्त संघर्ष समिति के रतन सिंह पिलानियां, प्रदेश संयोजक सुमित्रा सिंह ने कहा कि सरकार की दोहरी निति की वजह से प्रदेश के दस लाख से अधिक निजी शिक्षकों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है |

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक निजी स्कूल संचालकों ने चेतावनी दी है कि यदि सरकार किसी भी मुददे का हल नहीं निकालती है तो पांच नवम्बर से संचालन बंद करने जैसा निर्णय भी लिया जा सकता है |

राज्य सरकार निजी संचालकों को स्पेशल पैकेज दे-

जिला निजी शिक्षण संस्थान संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि राज्य सरकार ऐसा करने की स्थिति में नहीं है तो निजी स्कूल संचालकों को आर्थिक पैकेज दिया जाए | इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमने तो कोरोनाकाल में भी साथ निभाया है |

जिलाध्यक्ष बीएल रणवां ने कहा कि निजी स्कूल संचालक प्रदेश में लगातार शिक्षा की अलख जगाने में जुटे हुए है | कोरोनाकाल में निजी स्कूलों के शिक्षकों ने विधार्थियों को ऑनलाइन माध्यम से भी पढ़ाई करवाई थी | इसके बावजूद भी सरकार अभिभावकों को भर्मित कर रही है | अगर सरकार उचित निर्णय नहीं लेती है तो 05 नवम्बर से प्रदेश के सभी निजी स्कूलों में संचालन का कार्य बंद किया जा सकता है |

नोट-दोस्तों अगर आपको हमारी टीम द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो, आप इस सूचना को अपने मित्रो के साथ भी शेयर करे-धन्यवाद

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *