प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना-योग्यता और लाभ की जानकारी देखे

By | January 21, 2020

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभ/प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना  के लिए पात्रता/प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना द्वारा कितनी राशि दी जाएगी/प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना  का लाभ उठाने के लिए कौन कौन से डोक्युमेन्ट्स होना जरूरी है सब इस पोस्ट में|

भारत सरकार ने गर्भवती महिलाओं के सहयोग के लिए “मात्र्तव सहयोग योजना ” की शुरुआत की थी जिसके अंतर्गत गर्भवती महिलाओं और सत्नपान करने वाली महिलाओं को कुछ सहयोग राशि दी जाती थी । ये सहयोग राशि महिला को इसलिए दी जाती थी ताकि वे अपने बचे व् खुद का पोषण कर सके और सही आहार प्राप्त कर सके ।

किसी कारण के चलते सरकार ने “मातृत्व सहयोग योजना ” के नाम को बदलकर इसे प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) का नाम दिया है। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को पहले जीवित जन्म के लिए 6000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। ये केंद्र सरकार द्वारा शुरू की जाने की वजह से इसे प्रदानमंत्री योजना कहा जाता है और ये पुरे देश में चल रही है और गर्भवती महिलाओं को सहायता पहुंचे ये कोशिश की जा रही है ।

इस योजना के तहत पहली बार गर्भवती होने वाली प्रत्येक महिला के खाते में पोषण के लिए पांच हजार रुपये प्रदान किये जायेंगें । इस योजना में सभी आय वर्ग की गर्भवती महिलाओं को पात्र बनाया जाएगा। इस महिला योजना का लाभ देश के सभी जिले में यह योजना 01 जनवरी 2017 से ही लागू मानी जाएगी। इस योजना की शुरुआत देश के हर जिले में 01 जनवरी 2017 से शुरू कर दी गयी थी और आज तक सफलता पूर्वक चल रही है ।

इस योजना के अंतर्गत जनवरी 2017 से लेकर मार्च 2020 तक कुल बजट 12,661 करोड़ रुपये रखा गया है । इस योजना में कुल रुपए में से 7,932 करोड़ रुपये केंद्र सरकार द्वारा वहन किए जाएंगे जबकि शेष राशि संबंधित राज्य सरकारों द्वारा वहन की जाएगी।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभ :-

1.) इस योजना से गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को पहले जीवित बच्चे के जन्म के दौरान फायदा होगा।

2.) योजना की लाभ राशि DBT के माध्यम से लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे भेज दी जाएगी।

3.) सरकार द्वारा आर्थिक सहायता देने से परिवार पर महिला व् बचे के पोषण का भार काम हो जायेगा ।

4.) सही समय पर पोषण मिलने से बचे कुपोषण का शिकार नहीं होंगें ।

5.) डिलीवरी के समय महिलाएं कमजोर हो जाती है उनके पोषण के लिए ये राशि सहायक होगी ।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के उद्देशय:-

हालांकि, गर्भावस्था सहायता योजना कई तरीकों से गर्भवती महिलाओं को मदद करेगी लेकिन इस योजना के तीन मुख्य उद्देश्य हैं

1.) काम करने वाली महिलाओं की मजदूरी के नुकसान की भरपाई करने के लिए ।

2.)  मुआवजा देना ताकि वो अपना उचित आराम और पोषण कर सके।

3.) गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के स्वास्थ्य में सुधार और नकदी प्रोत्साहन के माध्यम से अधीन-पोषण के प्रभाव को कम करना।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के कुछ महत्वपूर्ण पहलु :-

1.) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा पीएम मातृ वंदना योजना को जनवरी, 2017 में शुरू किया था। इसके तहत गर्भवतियों को पौष्टिक आहार के लिए सीधे उनके खाते में सहायता राशि भेजी दी जाएगी।

2.) इस योजना पर सीधे प्रधानमंत्री व राज्यों के मुख्यमंत्री निगरानी रखते है ताकि कोई बेईमानी न करे।

3.) प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन दोनों योजनाओं से पहली बार गर्भवती होने वाली ग्रामीण महिला के खाते में कुल 6400 रुपये और शहरी महिला के गर्भवती होने पर खाते में कुल 6000 रुपये पहुंचेंगे।

4.) इस प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के द्वारा पात्र गर्भवती महिलाओं को पहली किस्त में एक हजार रुपये गर्भ के 150 दिनों के अंदर, दूसरी किस्त में 2000 रुपये 180 दिनों के अंदर व तीसरी किस्त में 2000 प्रसव के बाद व शिशु के प्रथम टीकाकरण चक्र पूरा होने पर मिलेंगे।

5.) इन योजनाओ का लाभ लेने के लिए अपने नजदीक स्वास्थ्य केंद्र पर गर्भवतियों को अपना आधार व खाता नंबर देना होगा।

सरकार राशि को किस तरह आप तक पहुंचएगी :-

रिपोर्ट के मुताबिक सरकार किश्तों में आप तक राशि पहुंचएगी और वो इस प्रकार है 

  • पहली किस्त
  • 1000 रुपए गर्भावस्था के पंजीकरण के समय
  • दूसरी किस्त
  • यदि लाभार्थी छह महीने की गर्भावस्था के बाद कम से कम एक प्रसवपूर्व जांच कर लेते हैं तो 2,000 रुपए मिलेंगे।
  • तीसरी किस्त
  • जब बच्चे का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-B सहित पहले टीके का चक्र शुरू होता है।
किन किन महिलाओं को इस योजना का लाभ नहीं मिल सकता :-

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) निम्न श्रेणी के गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए लागू नहीं होगी।

1.) जो केंद्रीय या राज्य सरकार या किसी सार्वजनिक क्षेत्र में नियमित रूप से रोजगार कर रही है ।

2.) जो किसी अन्य योजना या कानून के तहत समान लाभ प्राप्त कर रही हैं।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना  में कितनी राशि मिलेगी ?

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन दोनों योजनाओं से पहली बार गर्भवती होने वाली ग्रामीण महिला के खाते में कुल 6400 रुपये और शहरी महिला के गर्भवती होने पर  खाते में कुल 6000 रुपये पहुंचेंगे।

किन किन महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ मिल सकता है ?

1. जो केंद्रीय या राज्य सरकार या किसी सार्वजनिक क्षेत्र में नियमित रूप से रोजगार नहीं कर रही है ।
2. जो किसी अन्य योजना या कानून के तहत समान लाभ प्राप्त नहीं कर रही हैं।   

किन किन महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ नहीं  मिल सकता है ?

1. जो केंद्रीय या राज्य सरकार या किसी सार्वजनिक क्षेत्र में नियमित रूप से रोजगार  कर रही है ।
2. जो किसी अन्य योजना या कानून के तहत समान लाभ प्राप्त कर रही  हैं।

प्रदानमंत्री मात्र वंदन योजना  द्वारा दी जाने वाली राशि को किस प्राप्त कर सकते है ?

सरकार किश्तों में आप तक राशि पहुंचएगी:-पहली किस्त1000 रुपए गर्भावस्था के पंजीकरण के समय|दूसरी किस्त यदि लाभार्थी छह महीने की गर्भावस्था के बाद कम से कम एक प्रसवपूर्व जांच कर लेते हैं तो 2,000 रुपए मिलेंगे।तीसरी किस्तजब बच्चे का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-B सहित पहले टीके का चक्र शुरू होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *