सशक्त नारी:-पति का अधूरा सपना पूरा करने के लिए बनी पुलिस अफसर (Jyoti Pandey बिहार दरोगा)

By | July 20, 2021

सशक्त नारी के इस अध्याय में आज जानेंगे ज्योति पांडे की कहानी | बिहार दरोगा में पुलिस अफसर बनी Jyoti Pandey ने अपने पति Amit Mishra का अधूरा सपना पूरा किया है |

आज के समय में आए दिन किसी न किसी की कामयाबी की कहानी आप सुनते ही रहते होंगे परंतु आज हम जिस महिला के बारे में बताने वाले हैं, उनका नाम ज्योति है | इनकी जिंदगी की कहानी सच में प्रेरणादायक है | जिस उम्र में महिलाएं अपने घर पर बच्चों को पालती हैं, अपना ज्यादा से ज्यादा समय वह सजने-सवरने में व्यर्थ करती हैं, उस उम्र में ज्योति ने दरोगा बनने का सपना देखा था और उन्होंने अपने इस सपने को साकार भी किया |

क्योंकि उनके पति ने भी दरोगा बनने में उनका पूरा साथ दिया और आज अपने पति तथा घरवालों के कारण ही वह इस मुकाम पर पहुंच पाई हैं | ज्योति ने शादी के पश्चात इतना कामकाज होने के कारण भी हार नहीं मानी और उन्होंने पहले ही प्रयास में दरोगा की परीक्षा को पास किया है |

हाल ही में बिहार सरकार द्वारा 2062 पदों पर दरोगा की भर्तियां निकाली गई थी और इन पदों पर 2 लाख से भी ज्यादा अभ्यर्थियों ने आवेदन दिया था, लेकिन फिर भी ज्योति ने दरोगा के पद पर सफलता हासिल की | अब आगे हम इसके बारे में आपको विस्तार से बताते हैं |

ज्योति के मन में पति को देखकर दरोगा बनने का ख्याल आया ?

ज्योति के पति Amit Mishra जुगसलाई के रहने वाले हैं, उन्होंने अपने छात्र जीवन में Inspector बनने के लिए कई बार परीक्षा दी, लेकिन वह हर बार असफल रहे और उनके मन में भी इसी चीज का मलाल था कि उन्होंने Inspector बनने के लिए इतना प्रयास किया फिर भी वह सफल नहीं हो पाए | उन्होंने अपनी इस चीज के बारे में भी अपनी पत्नी Jyoti Pandey से बताया और उसके बाद उनकी पत्नी Jyoti Pandey ने अपने मन में यह ठान ली कि, वह अपने पति के सपनों को पूरा करेंगे और वह उन्हें Inspector बन कर दिखाएगी |

ज्योति के साथ-साथ उनके पति ने भी पूरी मेहनत की

  • ऐसा भी बताया जाता है की, MBA की पढ़ाई पूरी करने के पश्चात ज्योति की शादी अमित मिश्रा से हो गई थी | फिर जब उन्हें अपने पति के अधूरे सपने के बारे में पता चला, तो फिर उन्होंने दिन रात एक कर दिया और पढ़ाई शुरू कर दी | अब दरोगा की परीक्षा के लिए कोचिंग की आवश्यकता तो पड़ती ही है लेकिन उन्होंने कोचिंग भी नहीं ली, क्योंकि उनके पति अमित मिश्रा ने उन्हें पढ़ने में पूरी मदद की जो पढ़ाई Coaching में करवाई जाती थी, वह अमित मिश्रा जी ने उन्हें घर पर ही करवाई |
Jyoti Pandey Daroga News
  • इसी प्रकार अमित मिश्रा ने भी अपनी पत्नी का पूरा सहयोग किया और उसे आगे बढ़ने के लिए पूरा गाइड करते रहे | आज इन दोनों की मेहनत के कारण ही Jyoti Pandey दरोगा बन पाई हैं | वैसे तो जब शुरुआत में ज्योति ने Inspector की परीक्षा की तैयारी शुरू की थी तो उन्हें बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था, क्योंकि उन्होंने MBA की हुई थी और Inspector की परीक्षा के subject बिल्कुल अलग थे | लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और उनके पति ने भी उन्हें पढ़ाने में पूरी मेहनत की |

Jyoti Pandey के ससुराल वालों ने भी पूरा साथ दिया 

  • ज्यादातर लड़कियां शादी के बाद आगे नहीं पढ़ पाती, क्योंकि मध्यम वर्ग के परिवार में शादी के बाद पढ़ने की अनुमति नहीं दी जाती | लेकिन ज्योति बेहद ही भाग्यशाली हैं, क्योंकि उन्हें ससुराल में भी पूरी आजादी मिली थी |
  • आपको जानकर हैरानी होगी, कि ज्योति की 8 साल की पुत्री भी हैं | लेकिन जब ज्योति पढ़ाई करती थी, तो पढ़ाई के समय उनकी पुत्री को उनके पति अमित या फिर ससुराल वाले संभालते थे, ताकि वह अच्छे से पढ़ाई कर सके | इसीलिए ज्योति के Inspector बनने में ज्योति के ससुराल वालों का भी अहम योगदान रहा हैं | यदि ज्योति के ससुराल वाले उसकी सहायता नहीं कर पाते तो उन्हें Inspector बनने में परेशानी हो सकती थी |
  • जब ज्योति ने दरोगा की परीक्षा पास की तो उसके पश्चात उनके पति Amit Mishra ने यह कहा कि जिस प्रकार मेरी पत्नी ने मेरे सपनों को पूरा करने के लिए दिन रात मेहनत की और मेरे परिवार वालों ने भी मेरी पत्नी का पूरा साथ दिया है | इसी प्रकार दूसरे लोगों को भी अपनी बहू और बेटी में कोई भी फर्क नहीं समझना चाहिए | बहु यदि आगे पढ़ना चाहती है, तो उसे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए |
follow us for social updates

One thought on “सशक्त नारी:-पति का अधूरा सपना पूरा करने के लिए बनी पुलिस अफसर (Jyoti Pandey बिहार दरोगा)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *