NEET परीक्षा पर संकट-कोरोना की दूसरी लहर से 12वीं कक्षा की परीक्षाएँ स्थगित हुई |

By | April 16, 2021

कोरोना की दूसरी लहर की वजह से नीट परीक्षा भी प्रभावित होने की संभावना बढ़ी, 12वीं की परीक्षाएँ स्थगित होने से NEET परीक्षा पर संकट हो सकता है, CBSE बोर्ड सहित देश के सभी राज्यों के बोर्ड ने परीक्षाएँ स्थगित करने का निर्णय किया |

आपको पता ही है कि देश में कोरोनावायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही हैं। अब तो कोरोनावायरस की दूसरी लहर शुरू हुई है। जो कि पहली लहर से भी काफी ज्यादा खतरनाक है और अब कोरोनावायरस की चपेट में पहले से भी अधिक लोग आ रहे हैं। अब इस स्थिति को देखते हुए सरकार के द्वारा बच्चों के भविष्य के लिए अहम फैसले लिए गए हैं।

NEET Exam 2021 Postponed News

क्योंकि सरकार नहीं चाहती कि बच्चों को कोरोनावायरस की वजह से किसी परेशानी का सामना करना पड़े। इसलिए सीबीएसई बोर्ड ( CBSE Board ) की 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। परंतु अब इन परीक्षाओं को स्थगित करने का काफी ज्यादा बुरा असर जेईई एडवांस ( JEE Advanced ) व नीट ( NEET ) जैसी परीक्षाओं पर भी पड़ सकता है। अब आगे इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको यही बताएंगे कि 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द करने से किन-किन परीक्षाओं पर आगे काफी बुरा असर पड़ सकता है।

JEE Advanced तथा NEET परीक्षाएँ भी प्रभावित |

हाल ही में राजस्थान सरकार ने राजस्थान बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं तो स्थगित कर ही दी है। इसके साथ साथ सीबीएसई बोर्ड ने भी 12वीं कक्षा की परीक्षाएं स्थगित कर दी है अब हम आपको बता दें कि यह परीक्षा स्थगित करने का काफी ज्यादा बुरा असर आगे उन छात्रों पर पड़ेगा जो कि नीट ( NEET ) की परीक्षा पास करके मेडिकल लाइन में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं या फिर जेईई एडवांस ( JEE Advanced ) परीक्षाएं देना चाहते हैं।

सीबीएसई बोर्ड का यह कहना है कि 1 जून को परिस्थितियों को देखा जाएगा और उसके पश्चात एग्जाम की तारीख भी तय कर दी जाएगी। यदि 1 जून को परीक्षाओं की तारीख तय कर दी जाती है। तो छात्रों को परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए कम से कम 15 दिन का समय दिया जाएगा। अब ऐसी परिस्थिति में सीबीएसई बोर्ड ( CBSE ) अगर 15 जून के बाद परीक्षाओं को करवाता है तो भी एग्जाम पूरे होने में कम से कम 1 महीने का समय लगता है। इस स्थिति में सीबीएसई की परीक्षा 15 जुलाई तक चलेगी।

हम आपको बता दें कि 3 जुलाई को जेईई एडवांस की परीक्षा है और इस परीक्षा में सबसे अधिक सीबीएसई बोर्ड के साइंस तथा मैथ स्ट्रीम के छात्र ही बैठते हैं अब ऐसी स्थिति को देखते हुए राजस्थान या अन्य स्टेट बोर्ड कि साथ ही परीक्षा होगी। राजस्थान बोर्ड ने भी 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। अब अगर राजस्थान बोर्ड की परीक्षाएं जून के बीच में या फिर जून के बाद होती है। तो फिर वह छात्र जेईई एडवांस परीक्षा को नहीं दे पाएंगे। अगर तय समय से पहले ही 12वीं कक्षा की परीक्षाएं हो जाती हैं। तो उसके पश्चात सभी छात्र जेईई एडवांस परीक्षा को दे पाएंगे।

इस प्रकार पड़ेगा मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम की तैयारियों पर बुरा असर

यदि सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं 15 जुलाई तक चलती हैं। तों नीट की परीक्षा ( NEET ) की फाइनल तैयारियों के लिए छात्र के पास मुश्किल से 15 से 16 दिन का समय ही होगा। नीट की परीक्षा अगस्त में करवाई जाएगी। यदि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं ही जुलाई में होती है। तो फिर परीक्षाओं को पूरा होने में 1 महीने का समय कम से कम लगेगा और ऐसे में नीट ( NEET )की परीक्षा को भी आगे बढ़ाया जा सकता है।

क्योंकि जब छात्रों को पढ़ने का समय ही नहीं मिल पाएगा तो वह नीट की परीक्षा भी पास नहीं कर पाएंगे। इसीलिए ऐसा कहा जा रहा है कि यदि अब जल्दी ही 12वीं कक्षा की परीक्षाएं नहीं होती तो फिर नीट की परीक्षा की तिथि भी आगे बढ़ा दी जाएगी। यह कोरोनावायरस का दूसरा चरण है यह चरण पहले चरण से कहीं ज्यादा खतरनाक है l

अब ऐसे में यदि परीक्षाएं करवाई जाए तो छोटे बच्चों के साथ साथ स्टाफ भी कोरोना संक्रमित हो सकता है l सरकार परीक्षाएं करवा कर इतना बड़ा रिस्क नहीं ले सकती lहम आपको यहीं राय देंगे अगर परीक्षाएं स्थगित होती है तो हमें निराश नहीं होना, क्योंकि इस समय पर कोरोनावायरस से बचना सबसे ज्यादा जरूरी है सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है कि कोरोनावायरस को किसी भी तरह नियंत्रण में किया जा सके l हमें भी सावधानी बरतकर सरकार का साथ देना चाहिए l

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *