LPG ग्राहकों को मिलेंगे 50,00000 रूपये- जानिए आप कैसे उठा सकते इसका लाभ |

By | April 16, 2021

अगर आप भी LPG ग्राहक हो तो 50 लाख रूपये का फायदा उठा सकते हो, किसी व्यक्ति की LPG की वजह से दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को 5000000 रूपये बीमा के रूप में दिए जाते है,अधिक जानकारी के लिए अधिकारिक वेबसाइट को विजिट करे -http://mylpg.in

एलपीजी गैस का इस्तेमाल तो भारत के हर घर में होता ही है। वैसे तो एलपीजी गैस ( LPG Gas ) का इस्तेमाल रसोई में खाना पकाने के लिए किया जाता है। आधार एलपीजी गैस का इस्तेमाल लापरवाही से किया जाए। तो यह काफी ज्यादा मुसीबत भी पैदा कर सकता है क्योंकि बहुत बार गैस सिलेंडरों में लीकेज होती है।

जिसके बारे में हमें नहीं पता लगता और इसी कारण आग भी लग जाती है और आग इस प्रकार लगती है कि आग की चपेट में पूरा घर भी आ जाता हैं इतना ही नहीं इंसान की मौत तक हो जाती है। परंतु क्या आपको पता है कि यदि गैस के सिलेंडर में लीकेज है और लीकेज की वजह से सिलेंडर में आग लगती है और व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है।

तो इस परिस्थिति में पेट्रोलियम कंपनियों के द्वारा ग्राहक को इंश्योरेंस की राशि भी दी जाती है। क्योंकि पेट्रोलियम कंपनियां ग्राहक को पर्सनल एक्सीडेंट कवर भी उपलब्ध करवाती हैं। मतलब की गैस सिलेंडर के साथ-साथ ग्राहक का 50 लाख रुपए का इंश्योरेंस भी होता है। यदि पेट्रोलियम कंपनियों के नियमों के अनुसार दुर्घटना होती है और यही दुर्घटना यदि ब्लास्ट का कारण होती है। तो आपको इस दुर्घटना का फायदा मिल सकता है। जो कि अब हम आगे आपको विस्तार से बताएंगे वर्तमान समय में भारत में हिंदुस्तान पैट्रोलियम, इंडियन ऑयल, भारत पैट्रोलियम आदि के गैस सिलेंडर रसोई में इस्तेमाल किए जाते हैं।

क्लेम पाने का प्रोसेस ?

  • यदि किसी व्यक्ति के साथ इस प्रकार दुर्घटना घट जाती है। तो दुर्घटना के पश्चात क्लेम लेने का तरीका गवर्नमेंट की इस वेबसाइट http://mylpg.in पर विस्तार से दिया गया है। इस वेबसाइट के मुताबिक यदि एलपीजी गैस का कनेक्शन लेने पर ग्राहक को मिले सिलेंडर के कारण कोई दुर्घटना हो जाती है। या फिर व्यक्ति की जान चली जाती है तो मृत व्यक्ति के परिवार वालों को  50 लाख रुपए तक की राशि बीमा के रूप में दी जाती है।
My LPG Gas Connection
  • इस नियम के अनुसार यदि कोई व्यक्ति दुर्घटना से पीड़ित हो जाता है या फिर एक से अधिक व्यक्ति दुर्घटना में पीड़ित हो जाते हैं। तो उन सभी को 10 लाख रुपए से अधिक राशि दी जाती है।
  • एलपीजी सिलेंडर के कारण होने वाली दुर्घटना पर राशि को प्राप्त करने के लिए आवश्यक यह है कि दुर्घटना होने पर आपके परिवार वाले जल्दी से इस दुर्घटना की सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशन को दें और इसके साथ साथ जिस गैस एजेंसी ( Gas Agency ) से आपको सिलेंडर प्राप्त होता है उसे भी सूचित करें।
  • हम आपको बता दें की यह इंश्योरेंस ग्राहक के नाम से नहीं होती बल्कि हर एक ग्राहक इस इंश्योरेंस में कवर रहता है। इसके लिए उन्हें कोई भी प्रीमियम नहीं देनी होती।
  • इस इंश्योरेंस का लाभ लेने के लिए यह भी जरूरी है कि पुलिस स्टेशन में केस दर्ज होना चाहिए और एफ आई आर की कॉपी तथा जो व्यक्ति घायल हुए हैं। उनके इलाज के परचें व मेडिकल के बिल तथा यदि किसी व्यक्ति की मौत हो जाती है। तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा मृत्यु प्रमाण पत्र को संभाल कर रखना होता है ताकि इस इंश्योरेंस का लाभ लिया जा सके।
  • जब दुर्घटना हो जाती है तो दुर्घटना होने के बाद जो आपकी गैस एजेंसी होती है। उसी के जरिए इस मुआवजे का दावा भी किया जाता है। इस बीमे की राशि बीमा कंपनी के द्वारा वितरक ( Distributor) के पास ही जमा कराई जाती है और वितरक ( Distributor ) के पास से ही है राशि ग्राहक तक पहुंचती है। 
  • जब आप यह दुर्घटना हो जाने के बाद एफ आई आर दर्ज करवाते हैं और इसके बारे में वितरक ( Distributor )  को सूचित करते हैं। तो फिर उस एरिया का गैस एजेंसी का ऑफिसर इस हादसे की पूरी जांच करता है। अगर जांच के दौरान ऐसा पाया जाता है कि यह हादसा एलपीजी गैस सिलेंडर के कारण ही हुआ है। तो फिर वह उस एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर एजेंसी को इसके बारे में सूचित करता हैं। इसके पश्चात संबंधित बीमा कंपनी को क्लेम फाइल करना होता है और फिर ग्राहक को कुछ समय के पश्चात क्लेम दे दिया जाता है। क्लेम को लेने के लिए ग्राहक को बीमा कंपनी में क्लेम के लिए आवेदन करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

क्लेम लेने के लिए जरूरी दस्तावेज

यदि एलपीजी गैस सिलेंडर हादसे में किसी व्यक्ति की मौत हो जाती है या फिर कोई व्यक्ति घायल हो जाता है तो इस परिस्थिति में बीमा का पैसा लेने के लिए बहुत से जरूरी दस्तावेज चाहिए होते हैं जैसे कि :-

  • अगर कोई व्यक्ति गैस दुर्घटना में मरा है। तो उस व्यक्ति के पोस्टमार्टम की रिपोर्ट ( Post Mortem Report ) तथा मृत्यु प्रमाण पत्र ( Death Certificate ) चाहिए होता है।
  • यदि किसी व्यक्ति के मरने के साथ-साथ दूसरे परिवार के सदस्य घायल भी हुए हैं। तो उन घायल हुए व्यक्तियों की मेडिकल रिपोर्ट ( Medical Report )  तथा मेडिकल के सभी बिल ( Medical Bill ) भी चाहिए होते हैं।
  • जब यह दुर्घटना घटती है तो उसी समय अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में एफ आई आर ( FIR ) दर्ज करवानी होती है और उस एफ आई आर ( FIR ) की कॉपी भी चाहिए होती है।
follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *