कुसुम योजना ऑनलाइन आवेदन (सोलर पंप लगवाएं-60% सब्सिडी )-पात्रता और दस्तावेजों की जानकारी हिंदी में

By | July 14, 2020

कुसुम योजना- 60% सब्सिडी वाली Kusum Yojana की जानकारी हिंदी में, अपने खेत में सोलर पंप लगवाने के लिए कुसुम योजना के लिए क्या पात्रता है, Kusum Scheme के लिए आवश्यक दस्तावेज & वेबसाइट http://rreclmis.energy.rajasthan.gov.in/kusum.aspx

नमस्कार दोस्तों-Result Uniraj टीम आपको इस पेज में Kusum Scheme के बारे में सम्पूर्ण जानकारी बताएगी | आज हम आप सभी को इस आर्टिकल के द्वारा कुसुम (किसान ऊर्जा सुरक्षा तथा उत्थान महाअभियान)  योजना ऑनलाइन आवेदन के बारे में बताएँगे।

Kusum Solar Pump Yojana
Kusum Solar Pump Yojana

इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों का विकास है। इस योजना के तहत पंप का उपयोग करने वाले किसानों के पंपों को सौर ऊर्जा से चलने वाले पंपों में परिवर्तित किया जाएगा। कुसुम योजना सिर्फ सौर ऊर्जा वाले पंपों तक ही सीमित नही बल्कि इसके 3 कॉम्पोनेन्ट्स भी हैं –

  • कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट ए
  • कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट बी
  • कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट सी

कुसुम योजना में 60% सब्सिडी के साथ सोलर पंप लगवाए

देश भर के किसानों की सिंचाई से जुड़ी दिक्कतों को मिटाने के लिए तथा उन लोगों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के हेतु यह योजना शुरू हुई है। किसानों की सिंचाई से जुड़ी कोई दिक्कत ना हो इसी कारण खेतों में सौर उर्जा वाले पंपों को लगाने की शुरूआत की गई।

इस योजना के तहत लगभग 3 करोड़ से भी ज़्यादा डीजल तथा बिजली से चलाए जाने वाले पंपों को साल 2022 तक सौर उर्जा वाले पंपों में परिवर्तित किया जाएगा। इसके हेतु आवेदन की प्रक्रिया बहुत पहले ही शुरू हो चुके हैं। इस योजना के मदद से सौर उर्जा से उत्पन्न होने वाली बिजली को बचाया भी जा सकेगा।

साथ ही सिंचाई नही हो पाने के कारण फसलों को भी बरबादी से बचाया जा सकेगा। इसके अलावा किसानों को आय दी जाएगी, जिसके अंतर्गत किसानों को अतिरिक्त बिजली बचाने का ऑप्शन भी प्राप्त होगा, उनकी बंजर ज़मीन पर सौर उर्जा परियोजना लगाने के बाद।

ASDM Sudakhya YojanaPM Modi Sarkari Yojana की पूरी जानकारी
ऐसे चेक करे PM Kisan Samman Nidhi Yojana में पैसा मिला या नहीं मिला (Balance Status)आयुष्मान भारत योजना 2020 

राजस्थान में यह योजना ज़्यादा सफल साबित नही हुई। इसके पहले चरण में 37,500 किसानों को योजना का लाभ मिलना था पर उतने आवेदन ही नही आएँ। केवल 5,796 आवेदन ही आएँ, जिसके कारण आवेदन करने की अंतिम तिथि को भी बढ़ाया गया था 15 जनवरी तक। यह भी मान्यता है कि योजना को संचालित करने वाले विभाग के लोग भी सही तरीके से काम नही कर रहे हैं। हालाकि योजना पर काम हो रहा है ताकि इसे सफल किया जा सके।

धनबाद में इस योजना के तहत 170 आवेदनों को स्वीकृति मिली है। इसमे से टुंडी, गोविंदपुर और तोपचांची के 35 – 35, बलियापुर के 32, कलियासोल के 15, पूर्वी टुंडी के 11 और बाघमारा के आवेदनों को स्वीकृति मिली है। डी सी अमित कुमार ने बताया था कि इन 170 आवेदकों को सोलर पंप प्रदान किए जाएँगे। 

अभी कुछ दिन नवीन और नवीनीकरण ऊर्ज मंत्रालय को यह ज्ञात हुआ कि कुछ ऐसे वेबसाइट हैं जो कि कुसुम योजना के ऑफिसियल वेबसाइट होने का दावा करती है। बहुत से लोगों ने इन वेबसाइट्स पर रेजिस्ट्रेशन किया तथा अभी भी करे जा रहे हैं।

यह जो फर्ज़ी वेबसाइट्स हैं वे लोगों की जानकारियों को गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहे हैं। एम एन आर ई ने इस पर रोक लगाने की कोशिश शुरू कर दी है और लोगों को इसके प्रति जागरूक करने में लगी हुई है ताकि इन वेबसाइट्स के झाँसे में आ कर रेजिस्ट्रेशन ना करें। पिछले वर्ष भी ऐसे मामले देखे गए थे।

कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट ए:

इस घटक के अंतर्गत 500 से 2 मेगावाट की क्षमता रखने वाले अक्षय ऊर्जा पर आधारित बिजली संयंत्रों की किसानों, सहकारी समितियों, जल उपयोग कर्ता संघों, पंचायतों, किसान उत्पादक संगठनों पर स्थापना की जाएगी।

यह कार्य ऐसी भूमि पर होगा जहाँ फसल को सौर पैनलों के नीचे भी उगाया जा सके। पारेषण हानियों को कम करने हेतु तथा उप – पारेषण लाइनों की ऊँची लागत से सुरक्षा देने हेतु नवीनकरणीय ऊर्जा शक्ति परियोजना ka स्थापना की जाएगी उप – स्टेशनों से करीब 5 किलो मीटर के अंदर। स्थानीय डिस्कॉम की खरीदी हुई बिजली को पहले से तय की हुई टैरिफ पर खरीदा जाएगा।

जन धन योजनापीएम किसान 2000 लिस्ट
उज्जवला योजना गैस कनेक्शनप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

40 पैसे / kWh या फिर 6.60 लाख / मेगावाट / साल, इनमे से जो भी कम हो, बिजली को खरीदने हेतु MNRE पहले 5 साल तक DISCOMs को देगी।

कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट बी:

इस घटक के अंतर्गत 7.5 एच पी तक की सौर पंप की स्थापना हेतु किसानों का साथ दिया जाएगा। यह स्थापना ऐसे स्थानों पर की जाएगी जहाँ पर ग्रिड की आपूर्ति ज़्यादा तर नही मिलता हो। 7.5 एच पी से ज़्यादा क्षमता रखने वाले पंप भी लगाए जा सकेंगे पर उसमे वित्तीय मदद नही मिलेगी।

निविदा या फिर बेंचमार्क लागत का 30 प्रतिशत का सीएफए, इनमे से जो भी कम हो, राज्य सरकार के द्वारा सब्सिडी के रूप में 30 प्रतिशत दिया जाएगा और बचा हुआ 40 प्रतिशत किसानों को देना होगा। उत्तर – पूर्वी राज्यों में, हिमाचल, सिक्किम, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, लक्षद्वीप और अंडमान निकोबार द्वीप समूह, राज्य सरकार के द्वारा सब्सिडी के रूप में 30 प्रतिशत दिया जाएगा कुल 50 प्रतिशत का सीएफए में से और बचा हुआ 20 प्रतिशत किसानों को देना पड़ेगा। 

कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट सी:

इस घटक के अंतर्गत ग्रिड से संबंधित कृष पंप जिनके पास हैं ऐसे किसानों को सोलराइज पंप का समर्थन मिलेगा। किसान सिंचाई हेतु सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करेंगे तथा अतिरिक्त बिजली को पहले से तय की हुई टैरिफ पर डिस्कॉम को बेच दिया जाएगा।

इन फसलों के लिए किसान 15 जुलाई तक फसल बीमा करवाएप्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना
COVID-19 प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजनाकिसान रथ मोबाइल एप डाउनलोड करे

बेंचमार्क या निविदा लागत का 30 प्रतिशत का सीएफए में से जो भी कम होगा वो सब्सिडी के रूप में 30 प्रतिशत सरकार देगी और बाकी 40 प्रतिशत किसान को देंगे। उत्तर – पूर्व के जो राज्य हैं उसमे से  सिक्किम, उत्तराखंड, जम्मू कश्मीर, लक्षद्वीप और अंडमान निकोबार द्वीप समूह और हिमाचल में कुल 50 प्रतिशत में से 30 प्रतिशत सरकार देगी और बाकी का 20 प्रतिशत किसान को देना होगा। 

कुसुम योजना के बारे में कुछ ज़रूरी तथ्य : 

यहाँ इस पैराग्राफ में हमारी टीम आपको Kusum Scheme के बारे में सम्पूर्ण जानकारी एक सारणी के माध्यम से समझा रही है | जिससे आप Kusum Scheme की जानकारी आसानी से समझ सकेंगे |

योजना का नामकुसुम योजना 2020
उद्देश्यकिसानों को सौर ऊर्जा पंप रियायती मूल्य पर उपलब्ध करवाना
लॉन्च की गईपूर्व वित्त मंत्री स्व. श्री अरूण जेटली जी के द्वारा
कैटेगरीकेंद्र सरकार की योजना
ऑफिसियल वेबसाईटhttps://rreclmis.energy.rajasthan.gov.in/kusum.aspx 
योजना के लिए पंजीकरण हेतुकुसुम कंपोनेंट-A के अंतर्गत लीज की भूमि अथवा स्वयं की भूमि पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने हेतु विकासकर्ताओ का पंजीकरण

कुसुम योजना का मुख्य उद्देश्य:

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों का विकास करना। इस योजना के तहत किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप प्रदान किए जाएँगे।
  • इस योजना के द्वारा सोलर ग्रिड भी लगेंगे।
  • किसानों को कुल लागत की 10 फीसदी ही प्रदान करनी होगी।
  • केंद्र सरकार के द्वारा सब्सिडी के पैसे सीधे किसानों के बैंक अकाउंट में भेज दिए जाएँगे, जो कि कुल लागत की 60 फीसदी होंगे।
  • सौर ऊर्जा के हेतु जो प्लांट लगेंगे वे बंजर ज़मीन पर लगेंगे।
  • बैंक किसानों को ऋण के रूप में कुल लागत की 30 फीसदी पैसे प्रदान करेगी।
  • लगभग 45 हज़ार करोड़ रूपए बैंक से ऋण के रूप में देने का इंतज़ाम किया जाएगा।
  • इस योजना के पहले चरण में लगभग 17.5 लाख सिंचाई वाले पंप जो कि डीजल से चलाए जाते हैं वे सौर ऊर्जा के द्वारा चलेंगे।
  • इस योजना के तहत लगभग 28 हज़ार मेगावाट अधिक बिजली उत्पादित हो पाएगी।

कुसुम योजना का प्रमुख लाभ :

  • किसानों को इस योजना के ज़रिए बहुत से लाभ मिलेंगे जैसे कि बिजली की बचत होगी।
  • सिंचाई वाले पंप सौर ऊर्जा से चलने के कारण खेती में बढ़ोत्तरी होगी। 
  • इस योजना के ज़रिए डीज़ल की खपत कम हो पाएगी।
  • इस योजना के ज़रिए किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त में बिजली प्राप्त होगी।
  • ऐसे किसान जो गरीब हैं वह भी अपने खेतों की अच्छी सिंचाई कर के अच्छी फसल की पैदावर कर पाएँगे।

कुसुम योजना के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ :

हमारी टीम आपको इस पैराग्राफ में Kusum Scheme के लिए जरुरी दस्तावेजों के बारे में बता रही है | अगर आपके पास इनमे से कोई भी दस्तावेज नहीं है, तो तुरंत बनवा लेवे | क्योंकि बिना दस्तावेजों के आपको Kusum Scheme का लाभ नहीं मिल पायेगा |

एक क्लिक से देखे KCC लाभार्थियों की सूचीआत्मनिर्भर भारत अभियान
प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना-pmkmy.gov.in/प्रधानमंत्री शहरी ग्रामीण आवास योजना लाभार्थी सूची 
  • आवेदक का पासपोर्ट साइज़ की फोटो
  • बैंक अकाउंट का पास बुक
  • पते का प्रमाण पत्र 
  • आय का प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर

कुसुम योजना के लिए ऑनलाईन आवेदन की विधि :

  1. आवेदक को सबसे पहले कुसुम योजना के ऑफिसियल वेबसाईट https://rreclmis.energy.rajasthan.gov.in/kusum.aspx  पर जाना पड़ेगा।

  2. इसके बाद होम पेज आवेदक के सामने खुलेगा, जिस पर आवेदन हेतु क्लिक करना पड़ेगा।

  3. इसके बाद कुसुम योजना का फॉर्म दिखेगा।

  4. आवेदक को फॉर्म में पूछी गई सारी जानकारी सही – सही भरनी पड़ेगी।

  5. इसके बाद आवेदक को सबमिट बटन पर क्लिक करना पड़ेगा।

  6. ऑनलाईन आवेदन की विधि पूरी होने के बाद आवेदक को कुसुम योजना का जो ऑफिसियल वेबसाईट है उस में लॉग इन करना पड़ेगा।

  7. इसके बाद कुसुम सोलर योजना के अंतर्गत पूछी गई सारी जानकारी भरने के बाद आवेदक को सबमिट ऑप्शन पर क्लिक करना पड़ेगा।

  8. आवेदन इस प्रकार पूर्ण हो जाएगा।

  9. आवेदन संपूर्ण होने के बाद जल्द ही कुछ ही दिनों में आपके जो खेत हैं वहाँ पर सोलर पंप लगा दी जाएगी। 

कुसुम योजना के आवेदन की लिस्ट देखने की विधि :

  • आवेदक को सबसे पहले कुसुम योजना के ऑफिसियल वेबसाईट पर जाना पड़ेगा।
  • इसके बाद कुसुम के लिए पंजीकृत आवेदनों की सूची के विकल्प पर आवेदक को क्लिक करना पड़ेगा।
  • विकल्प पर क्लिक करते ही चुने हुए आवेदकों की लिस्ट खुलेगी, इस लिस्ट में आवेदक अपना तथा किसी और का भी नाम देख सकेंगे।

कुसुम योजना के बारे में पूछे जाने वाले कुछ महत्त्वपूर्ण प्रश्न :

कुसुम योजना 2020 का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

योजना 2020 का मुख्य उद्देश्य किसानों को सौर ऊर्जा वाले पंप रियायती मूल्य पर प्रदान करना और इसके ज़रिए उनका विकास करना।

कुसुम योजना के कितने कॉम्पोनेन्ट्स है और वह क्या – क्या हैं ?

इस योजना के तीन कॉम्पोनेन्ट्स हैं – कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट ए, कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट बी और कुसुम योजना कॉम्पोनेन्ट सी।

कुसुम योजना किस के द्वारा लॉन्च की गई थी ?

भारत के पूर्व वित्त मंत्री स्व. श्री अरूण जेटली जी के द्वारा लॉन्च की गई थी।

कुसुम योजना की ऑफिसियल वेबसाईट क्या है ?

योजना की ऑफिसियल वेबसाईट https://rreclmis.energy.rajasthan.gov.in/kusum.aspx है।

follow us for social updates

23 thoughts on “कुसुम योजना ऑनलाइन आवेदन (सोलर पंप लगवाएं-60% सब्सिडी )-पात्रता और दस्तावेजों की जानकारी हिंदी में

  1. UJJWAL SHARMA

    मुझे भी सोलर पंप की आवश्यकता है

    Reply
  2. Baburam sankhla

    मुझे सोलर पंप की आवश्यकता ह

    Reply
  3. NARAYAN Suthar

    ग्राम पंचायत नारी तहसील रायपुर जिला भीलवाड़ा गांव मेरी पोस्ट

    Reply
  4. चेतन दास स्वामी

    मुझे सोलर प्प की आवश्यकता है

    Reply
  5. सुरेश स्वामी 9782770500

    मुझे सोलर पम्प सेट लगवाना है

    Reply
  6. Sahid khan

    Sahid khan valij ghadi jalli patli tahsil kamavn bharatpur Rajasthan

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *