Dussehra (Vijayadashami) Friday, 15 October 2021 Dasara Festival Celebration Time, History, Importance & Significance दशहरा (विजयादशमी) महोत्सव

By | May 29, 2021

Dussehra (Vijayadashami) Friday, 15 October 2021 Dasara Festival Celebration Time, History, Importance & Significance दशहरा (विजयादशमी) महोत्सव, Dussehra Holidays, Dussehra Wishes, Dussehra Quotes, Dasara Festival in Hindi & Telugu, Dasara Image and more दशहरा (विजयादशमी) महोत्सव क्यो और कैसे मनाया जाता है

Dussehra (Vijayadashami) 2021 Dasara Festival Celebration:- Vijay Dashami, Dasara Wishes: – आप सभी को दशहरा की हार्दिक शुभकामनाए The 10th day of Navratri celebrations is known as Vijayadashami or Dussehra Friday, 15 October 2021. The Dussehra (Vijayadashami) festival marks the victory of good over evil and is celebrated on the 10th day of the month Ashwin of the Hindu calendar.

Dussehra (Vijayadashami) signifies the end of Durga Puja for those in eastern and northeastern states of India and commemorates the victory of Goddess Durga over Mahishasura, the demon king. In the northern and southern states, the festival also signifies the victory of Lord Ram over Ravana, who had abducted Goddess Sita.

सबसे पहले “www.resultuniraj.co.in के सभी पाठकों को दशहरा (विजयादशमी) महोत्सव की हार्दिक शुभकानाए “।

दशहरा (विजयादशमी) महोत्सव 2021 क्यो और कैसे मनाया जाता है

दशहरा (विजयादशमी या आयुध-पूजा) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन होता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है।  इस पर्व को हमारे देश मे बहुत ही उत्साह & हर्षोलाशके साथ से मनाया जाता है|

Dasara Festival

सभी राज्यो में इसे विभिन्न-विभिन्न पारंपरिक रीति-रिवाजों के साथ इस पर्व को मनाने की प्रथा है। दशहरा 9 दिनों से जारी दुर्गा पूजा समारोह की समाप्ति का प्रतीक है। दक्षिण भारत {South India} में इस दौरान देवी दुर्गा और देवी चामुंडेश्वरी की पूजा की जाती है, जिन्होंने लोगों की रक्षा के लिए असुरों की सेना को चामुंडा की पहाड़ियों में युद्ध कर पराजित किया था। इस दौरान देवी दुर्गा के साथ देवी लक्ष्मी, देवी सरस्वती, भगवान गणेश और कार्तिकेय की पूजा भी की जाती है।

दशहरा (विजयादशमी) का महत्व | दशहरा क्यो और कैसे मनाया जाता है {भगवान श्रीराम चंद्र जी और रावण}

दशहरा महोत्सव मनाने के पीछे की मूल कथा भगवान श्रीराम चंद्र जी से जुड़ी हुई है। चौदह वर्ष के वनवास में रावण द्वारा सीता का हरण कर लिया गया था। माता रानी सीता को बचाने के लिए और अधर्मी रावण का नाश करने के लिए भगवान श्रीराम चंद्र जी ने रावण के साथ कई दिनों तक युद्ध किया। शारदीय नवरात्रों के दिनों भगवान श्रीराम चंद्र जी ने शक्ति की देवी दुर्गा की अराधना लगातार नौ दिनों तक की इसके बाद उन्हें मां दुर्गा का वरदान मिला। इसके पश्चात मां दुर्गा के सहयोग से राम ने युद्ध के १० वे दिन रावण का वध कर उनके अत्याचारों से सभी को बचाया।

Dussehra (Vijayadashami) 2017 Dasara Festival Celebration Time

नवरात्रि के 10 वे दिन क्यों मनाया जाता है दशहरा, क्या है इसकी पौराणिक कथा

दशहरा एक हंसी खुशी का पर्व है, शारदीय नवरात्र की स्थापना पर कलश और मूर्ति स्थापना का विसर्जन भी इसी दिन किया जाता है। वैसे दशहरा एक प्रतीक पर्व है दशहरे के पुतले को बुराई , समस्त प्रकार की अमानवीय प्रवृति का प्रतीक मानकर जलाया जाता है। जिससे हमारा समाज इस प्रकार की बुराइयों विक्रतियो से मुक्त हो सके। सच्चे अर्थो में तभी दशहरा मनाने का महत्व सार्थक सिद्ध होगा। अश्विन की 10 वी तिथि को दस सिर के रावण को सच में जलाना है तो काम, क्रोध, लोभ, मत्सर, अहंकार, हिंसा और चोरी इन दस बुरी प्रवार्तियो और आदतों का सर्वप्रथम हमे त्याग करना होगा।

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *