मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा विधायकों को भी इंदिरा रसोई में भोजन करना होगा-यहाँ से जानिए पूरा मामला क्या है |

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा विधायकों को भी इंदिरा रसोई में भोजन करना होगा, राजस्थान प्रदेश में इंदिरा रसोई का खाना विधायकों को भी चखना पड़ेगा, राजस्थान प्रदेश के सभी विधायकों को 8 रूपये में मिलने वाले खाने को महीने में एक बार चखना पड़ेगा, यहाँ से जानिए इंदिरा रसोई में कब मिलता है भोजन

Rajasthan राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा एक बड़ा फैसला लिया गया है। जिसमें अब हर विधायक को 1 महीने में एक बार जरूर इंदिरा रसोई मे जाकर भोजन करना होगा। इससे इंदिरा रसोई मे भोजन की ना केवल गुणवत्ता बढ़ेगी बल्कि निरीक्षण भी होता रहेगा। साथ ही लोगों को यह विश्वास भी रहेगा कि विधायक स्तर के लोग भी Indira Rasoi में खाना खाते हैं, तो यहां बनने वाला भोजन गुणवत्तापूर्ण और पोष्टिक है।

BSNL कंपनी होने वाली है मर्ज, पीएम मोदी ने दी मंजूरी

Bhumi Jankari 2022

जिससे लोगों का इंदिरा रसोई मे बनने वाले भोजन पर भरोसा रहेगा, और लोग ज्यादा से ज्यादा संख्या में यहां पर भोजन करेंगे। क्योंकि Indira Rasoi Yojana का उद्देश्य लोगों को सम्मान पूर्वक बैठाकर ताजा, पोष्टिक और स्वादिष्ट भोजन देना है। लोगों का इस योजना में विश्वास बना रहे, इसी वजह से सभी सांसदों, विधायकों, मेयर, चेयरमैन, पार्षद तथा अन्य जनप्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री जी ने महीने में एक बार भोजन करने की अपील की है। आइए विस्तार से indira rasoi Yojana के बारे में जानते हैं।

Govt Job Update & Exam Notes के लिए फॉर्म भरे

कोई भी कर सकता है ₹8 में भरपेट भोजन

इंदिरा योजना मे जरूरतमंद लोगों को केवल ₹8 में शुद्ध, ताजा तथा गुणवत्तापूर्ण  भोजन उपलब्ध कराया जाता है। इसी वजह से इंदिरा रसोई योजना लाई गई थी। ताकि जरूरतमंद लोग भी अच्छा खाना खा सकें। बताया जा रहा है कि Indira Rasoi में रोजाना बड़ी संख्या में लोग भोजन करते हैं। इसी वजह से राजस्थान सरकार द्वारा हाल में रसोइयों की संख्या बढ़ाने का भी फैसला लिया गया है। जिसमें सरकार द्वारा 250 करोड रुपए हर साल खर्च किए जा रहे हैं।

Chief Minister Gehlot said that MLAs will also have to have food in Indira Rasoi

Ashok gehlot सरकार का यह मानना है, कि दो वक्त की रोटी सबको मिलनी चाहिए। सरकार लोगों की भलाई के लिए ही चलती है। ऐसे विकास का क्या फायदा, जहां पर गरीब लोग 2 जून की रोटी नहीं जुटा पा रहे हैं। इसी वजह से इंदिरा रसोई योजना में गरीब लोगों को अच्छा गुणवत्तापूर्ण भोजन दिया जाता है। जिसमें 100 ग्राम दाल, सौ ग्राम सब्जियां तथा ढाई सौ ग्राम चपाती और अचार भी दिया जाता है। लोग केवल ₹8 में ही भरपेट भोजन कर सकते हैं।

बुधवार को हुए एक कार्यक्रम में अशोक गहलोत ने यह कहा, कि इंदिरा रसोई योजना काफी famous हो रही है। मैंने इस योजना की गुणवत्ता के लिए ही पिछले महीने इंदिरा रसोई में अपने साथी गणों के साथ भोजन किया था। आगे भी मैं इसमें भोजन करता रहूंगा। क्योंकि हमारी सरकार की प्राथमिकता है, कि गरीब लोगों को केवल ₹8 में शुद्ध, ताजा तथा गुणवत्तापूर्ण भोजन कराया जाए।क्योंकि गरीब लोग पैसा ना होने की वज़ह से ऐसा भोजन नहीं कर पाते है। ऐसे मे यह सरकार की जिम्मेदारी होती है। अपने लोगों को अच्छा खाना दे।

अगस्त 2020 में शुरू की गई थी इंदिरा रसोई योजना

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इंदिरा रसोई योजना की शुरुआत Rajasthan government द्वारा अगस्त 2020 में की गई थी। जिसके बाद से अब तक राज्य में 870 इंदिरा रसोईया खुल चुकी हैं। यह सभी इंदिरा रसोईया No Profit No Loss मॉडल पर चलाई जा रही हैं। जिनका उद्देश्य केवल सामाजिक कल्याण करना है।

अभी हाल ही में 18 सितंबर 2022 को गहलोत सरकार द्वारा 512 नई इंदिरा रसोईया खोली गई हैं। क्योंकि इस योजना में लोगों का बहुत ज्यादा विश्वास है। लोग ज्यादा से ज्यादा मात्रा में इस इंदिरा रसोई में भाग ले रहे हैं। जिस वजह से सरकार द्वारा रसोइयों की संख्या भी बढ़ाई गई है और नई इंदिरा रसोइयों का भी शुभारंभ किया गया है।

बता दें कि इंदिरा रसोई मे सरकार द्वारा हर थाली पर ₹17 का अनुदान दिया जाता है। जबकि लोगों को यह ₹8 में मिलती है। बुधवार को Ashok Gehlot द्वारा रिव्यू बैठक में बताया गया कि अब तक 7.42 करोड़ लोगों को इंदिरा रसोई में भोजन खिलाया जा चुका है।

जो कि दर्शाता है कि लोग कितनी ज्यादा मात्रा में इस योजना में भाग ले रहे हैं। लेकिन लोगों की लगातार बढ़ती मांग की वजह से ही, अब गहलोत सरकार राज्य में 1000 से ज्यादा इंदिरा रसोई खोलने  की योजना बना रही है। जिससे इस योजना को एक बड़े लेवल तक पहुंचाया जा सके।

इंदिरा रसोई में कब मिलता है भोजन

जो भी व्यक्ति इंदिरा रसोई में भोजन करना चाहता है, तो वह सुबह 8:30 बजे से 1:00 बजे तक तथा शाम को 5:00 बजे से रात 8:00 बजे तक भोजन कर सकता है। यानी इस समय के अनुसार ही Rajasthan states में इंदिरा रसोई खुलती है। भोजन करने के लिए इन रसोई में कोई भी व्यक्ति जा सकता है।

जिसके लिए कोई भी डॉक्यूमेंट की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि कुछ लोग ऐसा सोचते हैं, की इंदिरा रसोई में भोजन करने के लिए गरीबी रेखा से नीचे वाले लोग ही जा सकते हैं। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति इंदिरा रसोई में जा सकता है। जहां पर सभी व्यक्तियों को ₹8 में भरपेट भोजन मिलता है। इसमें लोगों द्वारा जितना चाहे उतना भोजन लिया जा सकता है। भोजन लेने की कोई सीमा नहीं है। इसी वजह से लाखों लोग इस योजना मे भाग ले रहे हैं।

भोजन की गुणवत्ता लोगों के लिए बनी रहे, इसीलिए gehlot government द्वारा सभी विधायकों से यह अपील की गई है। महीने में एक बार जरूर इंदिरा रसोई में खाना खाएं। ताकि इंदिरा रसोई में निरीक्षण भी किया जा सके।

“Rich Dad Poor Dad” 

अगर आपके आधार कार्ड को 10 साल हो गए हैं तो अपडेट करवाना जरूरी है

कई बार ऐसा भी होता है,कि रसोईया अच्छा खाना नहीं बनाते हैं। लोग सरकार को दोष देने लग जाते हैं। क्योंकि इंदिरा रसोई no profit no loss पर चल रही है। ऐसे में इंदिरा रसोई में काम करने वाले रसोईया खाने की गुणवत्ता में कुछ गड़बड़ कर देते हैं।

इसलिए इनका निरीक्षण करना जरूरी है। तभी गहलोत सरकार द्वारा यह फैसला लिया गया है, कि हर महीने निरीक्षण होना जरूरी है। क्योंकि बिना निरीक्षण के इंदिरा रसोई योजना या कोई भी योजना सही तरीके से नहीं चल सकती है।

Leave a Comment