21 सितम्बर से स्कूल खोलने की तैयारी-स्कूल बच्चों को बुलाने को आतुर क्यों?

By | September 15, 2020

21 सितम्बर 2020 से स्कूल खोलने की तैयारी शुरू, केंद्र सरकार ने स्कूल खोलने के लिए दिशा-निर्देश, 21 सितम्बर 2020 से खुल सकेंगे कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्कूल, स्कूल बच्चो को बुलाने को आतुर क्यों?

नमस्कार दोस्तों-Result Uniraj टीम आपको इस पेज में 21 सितम्बर 2020 से खुलने वाले स्कूलों के लिए जारी दिशा-निर्देशों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी बताएगी | विश्व में कोरोना महामारी की वजह से भारत सरकार ने भी 25 मार्च 2020 से लॉकडाउन लगा दिया था |

जिसकी वजह से सभी कॉलेज और स्कूल भी बंद कर दी गई थी | देश के सभी स्कूलों में बोर्ड की परीक्षाओं के अलावा सभी कक्षाओं के विधार्थियों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रमोट किया गया था | इसके अलावा कॉलेजों में भी केवल अंतिम वर्ष या फाइनल सेमेस्टर के अलावा सभी कक्षाओं के विधार्थियों को बिना परीक्षा ही अगली कक्षा में प्रोन्नति दी गई है |

छात्रों के पढ़ाई बाधित नहीं हो, इसके लिए अधिकतर स्कूल अपने छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं के जरिये भी पढ़ा रहे है | लेकिन अब पांच-छह माह बाद केंद्र सरकार ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों को स्कूल जाने की अनुमति प्रदान की है | इसके लिए भी छात्र को अपने माता-पिता या अभिभावक से अनुमति लेनी होगी | उसके बाद ही छात्र को विधालय में प्रवेश दिया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए आप इस पेज को आखिर तक जरूर पढ़े |

21 सितम्बर से खुलेंगे स्कूल-अभिभावकों से लेनी होगी अनुमति-

कोरोना संक्रमण के कारण से मार्च माह से बंद पड़े स्कूल अब आगामी 21 सितम्बर 2020 से खुल सकेंगे | केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार फिलहाल कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों को ही स्कूल जाने की मंजूरी दी गई है | इसको लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किया है | जारी दिशा-निर्देशों में यह कहा गया है, कि छात्रों पर निर्भर रहेगा, कि वे स्कूल जाना चाहते है या नहीं |

छात्रों की माँग-कोचिंग संस्थान वापस लौटाए फीस:हाईकोर्ट में लगाई याचिकाPNB Specialist Officer 535 Recruitment 2020
कॉलेज और प्रतियोगिता परीक्षाओं की तिथि टकराई-परीक्षार्थी असमंजस में|राजस्थान सरकार ने कहा अंतिम वर्ष परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में होंगी

अगर छात्र विधालय जाना चाहता है, तो इसके लिए छात्र को अपने माता-पिता या अभिभावक से लिखित में मंजूरी लेनी होगी | इसके अलावा मंत्रालय ने कहा कि स्कूल अपने यहां पढ़ाई शुरू करने का फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है | लेकिन कक्षाएं अलग-अलग टाइम स्लॉट में चलेंगी और कोरोना के लक्षण वाले छात्रों को स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा |

स्कूल खोलने को लेकर इतने आतुर क्यों-

देश में अभी तक स्कूल बंद है, तो बच्चों में मास लेवल पर संक्रमण फैलने से बचा हुआ है | केंद्र सरकार ने विशेष परिस्थिति में गाइडेंस के लिए स्कूल खोलने की अनुमति दी है | ऐसे में स्कूल बच्चों को बुलाने पर इतना आतुर क्यों हो रहे है |

स्कूल संचालको द्वारा फीस वसूलने का लालच बच्चों की जान पर भारी पड़ सकता है | अगर 21 सितम्बर को सभी स्कूलों को खोला जाता है और किसी भी स्कूल में संक्रमण फैल गया तो, इसका जिम्मेदार कौन होगा | ऐसे में अभिभावक भी परेशान है,कि कहीं बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण के बीच बच्चों को कुछ हो गया तो क्या होगा |

राजस्थान में पीटीआई के 1555 पद रिक्त-बेरोजगारों को भर्ती का इंतजाररीट में NCTE का पाठ्यक्रम-कॉमर्स के विधार्थियों को सम्मिलित किया जायेगा |
सरकार देगी कोचिंग फीस और 6000 हर महीने का खर्चा OBC, SC छात्रों को (केवल 2000 सीटें)सरकारी नौकरी में अब स्थानीय युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी-कार्मिक विभाग को भेजा प्रस्ताव

केंद्र की गाइडलाइन को दरकिनार कर कई स्कूल तो परिजनों को फोन कर बच्चों को स्कूल बुला रहे है | इसके अलावा कुछ स्कूलों ने तो अभिभावकों से कहा है,कि 21 सितम्बर से कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों के स्कूल नियमित तौर पर खुल जायेंगे |

छात्रों और स्कूलों के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी हुए-

केंद्र सरकार द्वारा 21 सितम्बर से खुलने वाले स्कूलों के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये है | इसमें छात्रों और स्कूलों को जारी दिशा-निर्देशों का पालना करना होगा | यहाँ इस पैराग्राफ में हमारी टीम आपको केंद्र सरकार द्वारा जारी किये गए आवश्यक दिशा-निर्देशों के बारे में अवगत करवा रही है |

  • छात्रों के बीच कक्षा और लैब में 6 फिट की दूरी और मास्क जरुरी होने चाहिए |
  • ऑनलाइन/ डिस्टेसटिंग लर्निंग की अनुमति तब भी जारी रहेगी |
  • छात्रों को आपस में नोटबुक, पेन,पैंसिल,रबर,वाटरबॉटल,लेपटॉप आदि कुछ भी एक दूसरे को लेने-देने की इजाजत नहीं होगी |
  • कक्षाओं के बाहर भी छात्रों और अध्यापकों के बीच बातचीत हो सकती है |
  • स्कूल में सभाएं, स्पोर्ट्स, एक्टिविटी जैसे इवेंट नहीं हो सकेंगे |
  • आगंतुकों और छात्रों-शिक्षकों में भेंट अलग-अलग वक्त होगी |
  • स्कूल में अधिकतम 50% टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ बुला सकेंगे |
  • इमरजेंसी के लिए स्कूलों में स्टेट हेल्पलाइन नंबरो के अलावा स्थानीय स्वास्थ्य के नंबर भी डिस्प्ले होंगे |
  • पल्स ऑक्सीमीटर व्यवस्था अनिवार्य रूप से होनी चाहिए |
  • सफाईकर्मी को थर्मल गन, डिस्पोजल पेपर टॉवेल,साबुन, 1% सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन अवश्य देना होगा |

नोट-कंटेनमेंट जोन में आने वाले स्कूलों को खोलने की इजाजत नहीं होगी | कंटेनमेंट जोन में रहने वाले शिक्षकों या कर्मचारियों को भी स्कूल जाने की इजाजत नहीं होगी |

follow us for social updates

28 thoughts on “21 सितम्बर से स्कूल खोलने की तैयारी-स्कूल बच्चों को बुलाने को आतुर क्यों?

  1. Ujjwal Singh Rajput

    I think now school should be opened bcoz so much loss is happening of students

    Reply
  2. Namanojha

    Pendamic community spread level pe hai agar Bacho ko kuch Ho gya to sab lapete me ajaege
    Jab tak vaccine na aye school band Rayne chahiye college open hi jae or board exam walo ko bula le Kafi hai

    Reply
  3. Anjali

    Sir school k sath college bhi khulne chahiye Kyo ki exam Ka preparation nhi ho payega thik se . please.

    Reply
  4. L n saini

    Jo adhyapak shuddh Hindi nahin jante vah bacchon ko kya shiksha de sakte hain

    Reply
  5. Kanchan Singh

    No, No, schools and colleges should not be confused. This time is an ongoing pandemic. We should take action only after taking into consideration the situation of humanity, otherwise the existence of human life itself may be in danger.

    Reply
  6. Kartik

    School college kholne chahiye ab gar par bahut pareshan ho rahe hai plz govt. Se request hai plz

    Reply
  7. Bharti Agrawal

    Coaching school khol dene cahiye
    Online padai see kuch benefit nhi hai

    Reply
  8. Manish Kumar Shrivastava

    School and coaching teacher kya bheekh mangakar pariwar chalaye isaka jabab nahi solution chahiye

    Reply
  9. Ankit

    School not should be open because corona me hamare bache barbaad ho jaye ge ek baar corona ho gya toh dhik hona muskil hai

    Reply
  10. Vinod Kumar Sharma

    Abhi school nahi Khulna Chahta kyo ki Jo padhne wale Bache hai padn rahe hai

    Reply
  11. Garima bagri

    CLG Aur school Ab open hone chahiye Ku ki online studies ka koi mtlb nhii h

    Reply
  12. Khushal

    Sir college kholne chiea school ke sath kyunki exam ki preparation nhi ho payegi agr nhi khule toh offline class me hi thik se Pdai hoti h

    Reply
  13. Rk

    मेरा नाम

    मोहम्मद रेहान है
    में कूद टीचर हु और में चायता हु की स्कूल कुलनी चाहिए क्यू की जाे गरीब बच्चे है उनके पास ना तो मोबाइल ह ना कोइ और और इनकी ज़िन्दगी बरबाद हो रही है।। रिक्वेस्ट हैं मेरी गवर्मेंट से

    थैंक्स

    Reply
  14. नवीन कुमार

    Bachon ke school jald se jald kholne chahiye
    Ye hi mera manana h
    Nahi to future me serious problem ho sakti h kyonki student hi desh ka future h
    जय हिन्द जय भारत

    Reply
  15. Aayush

    Is samay school nahi kholne chahiye, Kam se Kam 1 saal ke liye 1zindgi barbad nahi karni chahiye

    Reply
  16. Shreya Kumari rajak

    School open krna cahiye q ki hmara na to online class ho rha or na kch

    Reply
  17. Anshu sharma

    School ab kholne chahiye
    Bacchon ka bhavishya kharab ho jayega
    Online study me to Teachers apna course complete karna chahate h
    Aur fees total le rahe h

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *