1 आम की कीमत 10000 रूपये-झारखंड की तुलसी कुमारी के सपनों को मिली नई उड़ान |

By | July 17, 2021

1 आम की कीमत 10000 रूपये, Jharkhand की Tulsi Kumari को Online Class लेने के लिए Mobile Phone खरीदना था, Ameya Hete जो कि मुंबई के व्यापारी उन्होंने 12 आमों को 120000 रूपये में खरीदा, 11 वर्षीय तुलसी कुमारी द्वारा पढ़ने के लिए किये गए संघर्ष से अन्य बच्चों को भी प्रेरणा मिलेगी |

हम सभी जानते हैं, कि कोरोनावायरस के कारण भारत एवं पूरे विश्व के हालात कितने बिगड़ते जा रहे हैं | सरकार के पास कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सबसे पहला विकल्प यही है, की ऐसे इलाके जहां पर कोरोनावायरस के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, वहां पर कर्फ्यू लगा दिया जाए | कर्फ्यू लगाने से कोरोनावायरस पर कुछ लगाम लगाई जा सकती है |

लॉकडाउन लगाने से कोरोनावायरस की रफ्तार को थोड़ा धीमा तो किया जा सकता है, परंतु लॉकडाउन लगाने के कारण ऐसे लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ चुकी है, जो लॉकडाउन के कारण अपने घर का खर्च भी नहीं चला पा रहे हैं | मजदूर एवं दिहाड़ी करने वाले ऐसे सभी लोग जो कोरोनावायरस के कारण अपने घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं | ऐसे में उनके पास इतना पैसा भी नहीं है, कि वह दो समय की रोटी खा पाए |

क्योंकि सरकार के द्वारा फैक्ट्रियों में अधिक व्यक्तियों के काम पर रोक लगाई गई है एवं ठेला वालों के लिए भी एक समय सीमा निर्धारित की गई है | जिस दौरान उन्हें अपना सामान बेचना होगा | कोरोनावायरस के कारण स्कूल भी बंद है, जिस कारण सभी विद्यार्थियों का भविष्य खतरे में पड़ चुका है | स्कूलों के द्वारा ऑनलाइन कक्षा का संचालन तो किया जा रहा है, परंतु ऑनलाइन कक्षा सिर्फ उन्हीं लोगों के लिए फायदेमंद है, जिनके पास स्मार्टफोन है एवं इंटरनेट है |

Jharkhand ki Tulsi Kumari

ऐसे गरीब लोग जिनके पास ना तो स्मार्टफोन है और ना ही इंटरनेट की सुविधा वह इस ऑनलाइन लर्निंग में पीछे छूट गए हैं | हाल ही में ही झारखंड का एक मामला सामने निकल कर आया है, जिससे हर ऐसे गरीब विद्यार्थी को पढ़ने की प्रेरणा मिलेगी जो आधारभूत सुविधाओं के अभाव में पढ़ने से वंचित हो जाते हैं |

11 वर्षीय लड़की ने पढ़ाई करने के लिए जो संघर्ष किया इस संघर्ष से दूसरे बच्चों को मिलती है आगे बढ़ने की प्रेरणा

Tulsi Kumari नाम की एक 11 वर्षीय लड़की जो झारखंड की निवासी है Tulsi Kumari की संघर्ष की कहानी काफी सुर्खियों में है | आपको बता दें कि तुलसी कुमारी एक बहुत ही गरीब परिवार से संबंधित है | Online Classes होने के कारण तुलसी कुमारी को पिछले 2 वर्षों से पढ़ाई करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था, क्योंकि कोरोनावायरस के कारण सभी Classes को Online कर दिया गया है |

अब ऐसे में गरीब परिवार के बच्चे जिनके पास Smart Phone नहीं है, वह अपनी क्लास नहीं देख पा रहे थे | ऐसे ही तुलसी कुमारी भी क्लास नहीं ले पा रही थी क्योंकि उनके पिताजी के पास कोरोनावायरस के कारण अच्छा काम नहीं था  और परिवार को काफी आर्थिक तंगी का सामना भी करना पड़ रहा था | ऐसे में स्मार्ट फोन और इंटरनेट की सुविधा ना होने के कारण Tulsi Kumari ने यह फैसला लिया कि आम को बेचकर अपनी पढ़ाई का खर्च उठाएगी |

तुलसी कुमारी के संघर्ष के बारे में जब Ameya Hete जो कि मुंबई के व्यापारी हैं, उन्हें पता चला तो उन्होंने तुलसी कुमारी की आर्थिक रूप से मदद करने के लिए ₹12 आम ₹120000 में खरीद लिए ताकि इस छोटी बच्ची को पढ़ाई करने में सहायता मिल सके | एक रिपोर्ट के अनुसार बच्ची ने यह बताया कि घर पर आर्थिक स्थिति सही ना होने के कारण उसके पिताजी उसे फोन नहीं दिला पा रहे थे |

जिस वजह से वह काफी परेशान थी, क्योंकि वह पढ़ाई करना चाहती थी और कोई साधन नहीं था, जिससे वह अपनी पढ़ाई कर सके | लेकिन इस आर्थिक मदद के बाद तुलसी कुमारी काफी खुश है और तुलसी कुमारी ने स्मार्टफोन भी खरीद लिया है | अब रोजाना वह ऑनलाइन क्लासेस लेती है | तुलसी कुमारी के संघर्ष से सभी बच्चों को यह प्रेरणा मिलती है, कि यदि आपके मन में पढ़ने की ललक है तो आप लाख मुश्किलों के बाद भी अपनी पढ़ाई को पूरी कर सकते हैं |

follow us for social updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *